उपायुक्त श्री महावीर कौशिक ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों और निजी अस्पतालों के प्रतिनिधियों के साथ की बैठक

पंचकूला, 4 जनवरी: उपायुक्त श्री महावीर कौशिक ने लघु सचिवालय के सभागार में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों और निजी अस्पतालों के प्रतिनिधियों के साथ आयोजित बैठक की अध्यक्षता की और पिछले कुछ दिनों में कोरोना के बढते मामलों के मद्देनजर स्थिति से निपटने के लिए की जा रही तैयारियों की समीक्षा की।

कोरोना के बढते मामलों के मद्देनजर स्थिति से निपटने के लिए की जा रही तैयारियों की करी समीक्षा

उपायुक्त ने कहा कि हाल ही में कोविड के सक्रिय मामलों में वृद्धि दर्ज की गई है और इस स्थिति से निपटने के लिए सभी आवश्यक प्रबंध पूरे किए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा कोरोना के फैलाव को रोकने के लिए नये दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं, जिन्हें पंचकूला में भी प्रभावी ढंग से लागू किया जा रहा है।

बैठक में उपायुक्त ने नागरिक अस्पताल सेक्टर 6 के साथ-साथ ओजस अस्पताल, एल्केमिस्ट और पारस अस्पताल में कोविड बैड, वैंटिलेटर, बाईपैप की उपलब्धता के बारे में जानकारी हासिल की। उन्होंने ओजस अस्पताल, एल्केमिस्ट और पारस अस्पताल को निर्देश दिये कि वे अपने-अपने अस्पतालों में प्राथमिकता के आधार पर पीएसए प्लांट लगाना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के निर्देशानुसार 50 बैड से अधिक क्षमता वाले अस्पतालों के लिए पीएसए प्लांट लगाना अनिवार्य है।

बैठक में बताया गया कि सिविल अस्पताल सेक्टर 6 में कुल 258 कोविड डेडीकेटिड बैडस की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा अस्पताल में 58 आईसीयू बैडस, 55 वेंटिलेटर और 50 बाईपैप भी उपलब्ध हैं। बैठक में यह भी बताया गया कि नागरिक अस्पताल में 6 हजार लीटर श्रमता का एलएमओ प्लांट क्रियाशील है और इसके माध्यम से सभी बैडस का आॅक्सीजन की आपूर्ति की जा रही है। इसके अलावा नागरिक अस्पताल में ही 10 हजार लीटर श्रमता का एलएमओ प्लांट एक सप्ताह के भीतर चालू हो जाएगा। इसके साथ-साथ नागरिक अस्पताल में 300 लीटर श्रमता का पीएसए प्लांट लग चुका है जिससे 30 बैडस को आॅक्सीजन की आपूर्ति की जा सकती है। कालका में 133 लीटर श्रमता का पीएसए प्लांट का केवल इलेक्ट्रिकल कार्य होना शेष है। इस पीएसए प्लांट से 10 से 12 बैडों को आॅक्सीजन की आपूर्ति की जा सकेगी। बैठक में बताया गया कि हरियाणा राज्य ओद्यौगिक आधारभूत संरचना निगम (एचएसआईआईडीसी) के माध्यम से सिविल अस्पताल में एक हजार लीटर श्रमता का पीएसए प्लांट लगाना प्रस्तावित है।

बैठक में बताया गया कि ओजस अस्पताल में 98 बैड और एल्केमिस्ट में 56 बैड कोविड मरीजों के लिए आरक्षित किए गए हैं। इसके अलावा दोनो निजी अस्पतालो में 8-8 बाईपैप/वेंटीलेटर की सुविधा भी उपलब्ध है। इसी प्रकार पारस अस्पताल में कोविड मरीजों के लिए 68 बैड आरक्षित किए गए हैं, जो कि स्थिति को देखते हुए 100 तक बढाए जा सकते हैं। इस अस्पताल में 6 बाईपैप/वेंटिलेटर उपलब्ध हैं। जिला में कार्यरत सभी छोटे-बड़े प्राईवेट अस्पतालों को मिला कर बैडस की उपलब्धता 600 तक बढाई जा सकती है।

इस अवसर पर उप सिविल सर्जन डाॅ. नीरू कपूर, डाॅ. शिवानी और डाॅ. राजीव नरवाल सहित ओजस अस्पताल, एल्केमिस्ट और पारस अस्पताल के प्रतिनिधि भी उपस्थित थे।

Leave a Reply