कमलम् में हुए कार्यक्रम में नियमों की धज्जियां उड़ाने पर राज नागपाल ने की कड़ी निंदा

चण्डीगढ़: अयोध्या में 5 अगस्त राम मंदिर भूमि पूजन के मौके पर चण्डीगढ़ से. 33 में स्थित भाजपा कार्यालय कमलम् में स्थानीय  भाजपा द्वारा आयोजित कार्यक्रम में भाजपा नेताओं व कार्यकर्ताओं द्वारा केंद्रीय गृह मंत्रालय से लेकर नगर प्रशासन के कोविड 19 के चलते निर्धारित किए गए दिशा निर्देशों की जमकर धज्जियां उड़ाए जाने की राज नागपाल ने कड़ी निन्दा की है। राज नागपाल, जो ऑल इंडिया राजीव मेमोरियल सोसायटी के प्रधान हैं, ने यहां जारी एक बयान में कहा है कि सत्ता के नशे में चूर भाजपा नेताओं ने पूरे शहर की जनता का जीवन खतरे में डाल दिया है। उन्होंने कहा कि प्रशासन ने केंद्र के निर्देशों का पालन करते हुए बकरीद व जन्माष्टमी जैसे त्यौहार भी पारम्परिक तौर पर मनाने से रोक लगाई हुई है, धार्मिक आयोजनों पर भी प्रतिबंध है, स्वाधीनता दिवस में भी इस बार पहले वाला टॉम जहां नहीं होगा, यहां तक कि आम जनता की बात मीडिया तक पहुँचाने के लिए की जाने वाली प्रेस कांफ्रेंस भी बंद की हुईं हैं तो ऐसे में प्रशासन की नाक के नीचे भाजपा कार्यालय में इतना बड़ा आयोजन कैसे हो गया।

प्रशासन व पुलिस का ख़ुफ़िया निगरानी तत्र बिलकुल नाकारा साबित हुआ 
केंद्रीय गृह मंत्रालय से पूरे मामले की जांच करवाने की मांग की | 

मंदिरों के बाहर जूते उतरवा लिए जातें हैं व सैनिटाइज़र से हाथ साफ़ करवाए जाते हैं व बुखार चेक किया जाता है, तब जाकर अंदर प्रवेश मिलता है, परन्तु यहां इस कार्यक्रम में सब जूते आदि पहन कर आ-जा रहे थे, सैनिटाइज़र का नामोनिशान ही नहीं था और सामाजिक दूरी का नियम तो बिलकुल बेमतलब था।
राज नागपाल ने आरोप लगाया कि प्रशासन का लोकल इंटेलिजेंस यूनिट यानी एलआईयू बिलकुल नाकारा साबित हुआ व इसके लिए जिम्मेदार अधिकारियों पर बनती कार्यवाई की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि जब इनकी पार्टी के प्रधान भी क्वारेंटीटाइन हैं तो ऐसे में निर्धारित अवधि से पहले ही कैसे पार्टी कार्यालय खोल कर पूरे शहर में लड्डू बाँट कर  आम जनता की जान को जोखिम में डाला गया। उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री से इस पूरे प्रकरण की जांच करवाने व दोषियों के खिलाफ कार्यवाई करने की मांग की है।