किसी  ने घरो में पूजा  करके  तो किसी ने बाहर खाना देकर किया कन्या पूजन 

पंचकूला – लोकडाउन की वजह से सभी घर पर है और सभी बंद पड़े है जिसके चलते कंजक पूजन पर सभी लोगो के अलग अलग विचार थे और सभी ने भिंन भिंन तरीकों से देवी माता का पूजन किया |
पंचकूला के रहने वाले सहगल परिवार ने कोरोना जैसी महामारी का विनाश करने के लिए देवी माता से अरदास की हो अपने घर की ही दोनों बेटिओ तोशनि एवं समायरा को बिठाकर कंजक पूजन किया | सहगल परिवार का कहना है की उन्होंने न ही किसी से कंजक ली और न ही अपनी बचिओ को किसी के घर पर जाने दिया | उन्होंने कंजक को दिए जाने वाले पैसो का उपयोग गरीबो को सूखा राशन देकर किया | इसके साथ ही पंचकूला सेक्टर २० की रहने वाली जसविंदर सोनिया ने अपने हाथो से १०० बच्चो के लिए खाने के डिब्बे बनाकर जरूरत मंद बचो में बांटे | पंचकूला सेक्टर १७ की रहने वाली रीटा वेदी ने अपने घर के मंदिर में ही पूजा की एवं बनाया हुआ परशाद झुग्गियों में रह रहे बच्चो एवं उनके परिवार में बांटा | चंडीगढ़ में रह रही पारुल सभरवाल ने बताया की दो दिन बाद उनके पति का जन्मदिन है हेर साल वह अपने पति के जन्मदिन पर वृद्ध आशाराम में जाते है इस बार चंडीगढ़ में कर्फु के चलते वह घर से बहार भी नहीं निकल सकती इसलिए उन्होंने कंजक को देने वाली राशि एवं  वृद्ध आश्रम में देने वाले सामान की राशि को जमा करके रख लिया है उन्होंने बताया की जैसे ही कर्फु खुलता है वैसे ही वह अनाथआलय में जाकर सभी बच्चो को  जरुरत  का सामान बांटेगे | मोहाली में रह रहे  डायरेक्टर एवं प्रोडूसर प्रदीप सिंह ने बताया की उन्होंने सबसे पहले घर में विधि विधान से माता की पूजा की एवं अपने आस पास रह रहे गरीब बचो एवं सड़क पर घूम रहे भूखे पशुओ को खाना खिलाया | वह अक्सर गौशाला में जाकर चारा डालते है परन्तु लोकडाउन की वजह से काफी समय से गौशाला नहीं जा पा रहे इसलिए वह अपने ही घर मे पक्षिओ को दाना डालते है एवं अपने आस पास की मार्किट में खुले में घूम रहे पशुओ को खाना खिलाते है | पंचकूला की चेतना चावला ने बताया की उन्होंने घर में पूजन के आड़ गौ पूजा की एवं अपने परिवार के साथ ही कन्या पूजन किया और सूखा राशन दान किया |