कोरोना वायरस संक्रमण में सावधानी ही सबसे बड़ी सुरक्षाः उपायुक्त, पंचकूला

पंचकूला 8 फरवरी  कोरोना वायरस संक्रमण के बारे में सावधानी बरतने के उद्ेश्श्य को लेकर उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने आज लघु सचिवालय के बैठक हाल में स्वाथ्य विभाग, कमांड अस्पताल पंचकूला, पंचायत एवं विकास विभाग तथा महिला एवं बाल विकास तथा अन्य संबधित विभागों के अधिकारियों सहित  पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधियों, आशा वर्करों और समाज सेवियों के साथ मीटिंग की।
बैठक को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस को लेकर प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद और सर्तक है। इस विषय में अभी हमारे लिए चिंता की कोई बात नहीं है। परन्तु हमें सावधानी बरतनी होगी कि इसका कोई प्रसार हमारे यहां पर हो ही नहीं। उन्होंने बताया कि चीन में इस वायरस की पुष्टि होने के बाद से पंचकूला में 11 व्यक्ति चीन से आए हैं। इनकी मेडिकल जंाच के बाद, इन को सामान्य पाया गया है। इन सभी को सावधानी के लिए 14 दिनों तक इनके घरों मेें ही आईसोलेशन में रखा गया है। उन्होंने कहा कि सावधानी के चलते चीन से आने वाले सभी व्यक्तियों को हवाई अड्डों पर ही मैडिकल तौर पर चैक किया जा रहा है और सावधानी के तौर पर  जरूरत पड़ने पर आईसोलेशन निगरानी में रखने की व्यवस्था है । परन्तु फिर भी पंचायती राज संस्थाएं, आशा एवं आंगनबाडी वर्कर और समाज सेवियों को यदि चीन से आने वाले किसी की जानकारी मिलती है तो वे तुरंत स्वाथ्य विभाग को इसकी जानकारी दें। इसके लिए भयग्रस्त होने की कोई जरूरत नहीं है। जरूरी नहीं है कि चीन से आने वाले हर किसी को संक्रमण हो। अभी तक किसी में इसकी पुष्टि नहीं हुई है। हमारा उद्देश्य है कि सावधानी रखी जाए।
पंचकूला की मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 जसजीत कौर ने बताया कि कोरोना वायरस एक नई बीमारी है जोकि  चीन से फैल रही है और अब तक दुनिया के 27 देशों में इसके मरीज देखने को आए है। उन्होंने कहा कि 15 जनवरी के बाद चीन से लौटे व्यक्ति मदद के लिए हैल्पलाईन नंबर 91-11-23978046 व 9779494643 व 8054007102 व 01722573907 पर संर्पक जरूर करें। उन्होंने बताया कि इसके लिए जिले में रैपिड एक्शन टीम पूरी तरह से तैयार है। इस तरह की कोई भी सूचना मिलते ही कार्रवाही शुरू हो जाएगी। 14 दिनों तक ऐसे किसी भी संभावित को एकांत  निगरानी में रखा जाएगा।
बैठक में जानकारी देते हुए डा राजीव नरवाल ने बताया कि चीन से लौटने के बाद यदि आपको बुखार, खंासी, या संास लेने में तकलीफ जैसी कोई समस्या है तो तुरंत स्वाथ्य एंव परिवार कल्याण विभाग भारत सरकार की हैल्पलाईन पर संर्पक करें। यह एक फ्लू जैसी बीमारी है जिसके लक्षण हैं खांसी, बुखार और सांस लेने में तकलीफ। अभी तक इसका कोई उपचार नहीं है और केवल इसके लक्षणों का ही ईलाज किया जा सकता है। इसलिए सावधानी में ही सुरक्षा है।   इसके लिए रायपुर रानी कालकर व पंचकूला में तीन जगहों पर चैकिंग की व्यवस्था है। इसके लिए आईएमए की बैठक लेकर निजि चिकित्सकों को भी जागरूक किया जा रहा है।
  इस अवसर पर कमांड अस्पताल के डा0 कर्नल जी एस चैधरी ने बताया कि कमांड अस्पताल इस बारे में हर तरह के सहयोग के लिए तैयार है।
10 फरवरी को जिले में बच्चों को दी जाएगी एलबैंडाजोल की गोली 
(पेट के कीड़ों से बचाती है एलबैंडाजोल गोली)
 इसके साथ ही बैठक में जर्नल अस्पताल सैक्टर 6 की सलाहकार डा0 सरोज अग्रवाल ने जानकारी देते हुए बताया कि आगामी 10 फरवरी को जिले के 2 से 2.50 लाख बच्चों को कृमि रोगों यानि पेट के कीड़ों से बचाने के लिए एलबैंडाजोल की गोली देने का अभियान चलाया जा रहा है। यह गोली हर आंगनबाडी केंद्रों, स्कूलों  ढाबों, झुग्गियों व,स्वास्थ्य केंद्रों पर मुफत में उपलब्ध होगी। इसलिए सभी से निवेदन है कि  1 साल से लेकर 19 साल तक के बच्चांे को यह गोली अवश्य दें । इस गोली का कोई साईड इफैक्ट नहीं है और यह बच्चों में पेट के कीड़ों और मिटटी के कारण पैदा होने वाले अन्य कीड़ों से बचाएगी। विटामिन ए की कमी को दूर करेगी और बच्चो को स्वस्थ रखेगी। बैठक में जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी दमन सिंह,  जनरल अस्पताल सैक्टर 6 अस्पताल की सलाहकार डा0 सरोज अग्रवाल एवं अन्य संबधित अधिकारी उपस्थित थे।