चंडीगढ़ एन.एच.एम कर्मचारी संघ ने प्रशासनिक निदेशक पोस्ट पर उठाये सवाल

चंडीगढ़: चंडीगढ़ एन.एच.एम कर्मचारी संघ ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, यूटी चंडीगढ़ के तहत प्रशासनिक निदेशक के पद के  सृजन और विज्ञापन की विसंगति के बारे में यूटी चंडीगढ़ के प्रशासक और प्रशासक यूटी के सलाहकार और स्वास्थ्य सचिव  को अवगत करवाया है । 

पोस्ट के सृजन और विज्ञापन की विसंगति के बारे में प्रशासक  और सलाहकार को  करवाया अवगत

एन.एच.एम, यू टी स्वास्थ्य विभाग ने एक विज्ञापन जारी किया, जिसमें प्रशासनिक निदेशक के उपर्युक्त पद के लिए साक्षात्कार 23 सितंबर, 2020 को यू टी के स्वास्थ्य सचिव के कार्यालय में आयोजित किया जाना है।

एन.एच.एम कर्मचारी जो पिछले 15 वर्षों से अल्प वेतन पर मेहनत कर रहे हैं, वे एन.एच.एम प्रशासन, यूटी और भारत सरकार के इस निर्णय से बहुत निराश औरअपमानजनक महसूस कर रहे हैं l हम सभी कर्मचारी  (मेडिकल / पैरामेडिकल और  प्रबंधकीय कर्मचारी) बहुत कम वेतन पर काम कर रहे हैं और यहां तक कि अनुबंध कर्मचारियों को दी जाने वाली न्यूनतम डीसी दर भी एन एच एम कर्मचारियों को नहीं दी जा रही है l जब भी संघ और अन्य कर्मचारियों ने वेतन वृद्धि की मांग की यूटी  प्रशासन के साथ-साथ एन एच एम, भारत सरकार ने भी कहा, की  बजट नहीं है और हम आपके वेतन में बढ़ोतरी नहीं कर  सकते।

एनएचएम कर्मचारियों को पिछले तीन सालों से कोई इंक्रीमेंट नहीं दिया गया और इस वित्तीय वर्ष 20-21 के लिए केवल 5  प्रतिशत दिए गए हैं। इसके अलावा, कर्मचारियों को लॉयाल्टी बोनस भी नहीं दिया गया है।

एम्प्लॉइज के बीच गुस्सा इतना अधिक है कि भारत सरकार और चंडीगढ़ प्रशासन हर महीने लाखों की सैलरी नव- सृजित पद पर दे सकता है,  लेकिन कभी भी संविदा इम्प्लॉइज के बारे में नहीं सोचा। इसके अलावा, यह एक अफवाह भी उड़ी हुई है  जिसका खुलासा 23/09/2020 को पुष्टि की जा सकती है कि यह पद किसी ऐसे व्यक्ति को लाभ देने के लिए बनाया गया है, जो वर्तमान में स्वास्थ्य विभाग के सर्वोच्च पद पर कार्यरतहै। इसके अलावा पद के लिए पात्रता मानदंड इतना डिज़ाइन और  तैयार किया गया है कि कोई अन्य प्रतियोगी साक्षात्कार के लिए उपस्थित नहीं हो पाएगा।

यह कर्मचारियों के बीच अमानवीयता और धोखे की एक स्पष्ट तस्वीर है और सभी कर्मचारियों को बहुत दुख हो रहा है और  यदि पद भरा गया तो कर्मचारी प्रशासन के खिलाफ जा सकते हैं।

संघ इस नियुक्ति के खिलाफ विरोध को तेज कर सकता है।  

इसके अलावा वित्त विभाग, भारत सरकार ने स्पष्ट रूप से उल्लेख कियाहै कि 2021 तक कोई नया पद सृजित और भरा नहीं जाएगा। इसलिए यह उन आदेशों का स्पष्ट उल्लंघन भी है।

एनएचएम के तहत एक प्रशासनिक निदेशक की कोई आवश्यकता नहीं है क्योंकि चंडीगढ़ में एनएचएम की शुरुआत के  बाद से केवल निदेशक स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मिशन निदेशक, एनएचएम के रूप में स्थान रखते हैं l  नए पोस्ट ने  आगामी नए डीएचएस की अक्षमता के लिए  चुनौतियां पैदा कीं l 2013 में एनएचएम के आंतरिक कर्मचारी के पक्ष में  कार्यालय अधीक्षक के लिए पद सृजन की एक ही प्रक्रिया ऐसे ही भी बनाई गई थी। जिसमें एक कर्मचारी को   प्रोमोट  करने के लिए नया पद  सृजित किया गया।

कर्मचारी चंडीगढ़ प्रशासक के तत्काल हस्तक्षेप की मांग करते हैं और कुछ सख्त कार्रवाई करने की मांग करते हैं और यदि  प्रशासन इस पद को रद्द नहीं करेगा तो यूनियन यह अन्याय बिल्कुल बर्दाश्त नहीं करेगी। इसके अलावा चंडीगढ़ की अन्य  ट्रेड यूनियनें इस नियुक्ति के खिलाफ हैं और इस तरह के पद को रद्द करने की मांग करती हैं।

Leave a Reply