जल संकट से निपटने के लिए ब्रिक्स राष्ट्र को एक दूसरे के अनुभव से चाहिए सीखना: रतन लाल कटारिया

पंचकूला, 10 अप्रैल: कें्रदीय जल शक्ति राज्यमंत्री श्री रतन लाल कटारिया ने सुरक्षित पेयजल की कमी जैसी सामान्य समस्याओं के समाधान में ब्रिक्स राष्ट्र की भूमिका पर प्रकाश डाला।  ब्रिक्स इंटरनेशनल फोरम द्वारा आयोजित एक वेबिनार
में बोलते हुए श्री कटारिया ने दक्षिण अफ्रीका के केप टाउन शहर में वर्ष 2017-18 के जल संकट का उदाहरण दिया।

ब्रिक्स उभरती हुई अर्थव्यवस्थाओं का एक संगठन है जिसका काफी क्षेत्रीय प्रभाव है, जो आपसी विश्वास, सम्मान और समझ पर आधारित है।

उन्होंने ब्राजील के बारे में उल्लेख किया जहां लगभग 3 मिलियन आबादी के पास अभी भी सुरक्षित पीने के पानी की पहुंच नहीं है। भारत में स्थिति संतोषजनक नहीं है क्योंकि महज 3.23 करोड़ ग्रामीण घरों में 2019 तक पानी की आपूर्ति हो पाई है, जो न्यूनतम 40 लीटर प्रति व्यक्ति प्रतिदिन है। दूसरी ओर, रूस में दुनिया की ताजा सतह और भूजल स्रोतों का 1/4 वां हिस्सा है और घरेलू उपयोग के लिए अपने निवासियों को 248 लीटर पानी उपलब्ध कराता है।

 जल जीवन मिशन को हमारे समाज में एक सामाजिक क्रांति की शुरुआत करने वाला कहा।

श्री कटारिया ने कहा कि कोरोना महामारी ने भूख, गरीबी और जल की कमी जैसे वैश्विक संकट को और अधिक बढ़ा दिया है। उन्होंने जल संकट से निपटने के लिए एक दूसरे के बहुमूल्य अनुभव से सीखने पर जोर दिया क्योंकि दुनिया भर में 2.2
बिलियन लोग अभी भी सुरक्षित पेयजल (डब्ल्यूएचओ) तक पहुंचने के लिए संघर्ष करते हैं। उन्होंने लोगों को किसी भी सरकार के एक अपरिहार्य कर्तव्य के रूप में लोगों को सुरक्षित पेयजल प्रदान करने और संयुक्त राष्ट्र के संकल्प 64/292 में एक मानव अधिकार के रूप में निर्दिष्ट किया।

श्री कटारिया ने आदरणीय गणमान्य व्यक्तियों को सूचित किया कि माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के गतिशील नेतृत्व में, भारत सरकार ने वर्ष 2024 तक प्रत्येक ग्रामीण परिवार को सुरक्षित पेयजल उपलब्ध कराने के वास्तविक महत्व को समझते हुए सभी को कवर करने के लिए एक महत्वाकांक्षी योजना शुरू की है। अगस्त 2019 में, भारत ने जल जीवन मिशन (जल जीवन है) योजना शुरू की, जिसका कुल परिव्यय 3.60 लाख करोड़ रुपये है, जो लगभग 48 बिलियन अमेरिकी डॉलर है।
इस प्रकार की यह योजना इस राष्ट्र के इतिहास में और शायद दुनिया में अभूतपूर्व है।

श्री कटारिया ने बताया कि 1 से डेढ़ साल की अवधि में, भारत ने ग्रामीण परिवारों को 40 मिलियन से अधिक पाइप जल कनेक्शन प्रदान किए हैं। इस गति से, समय सीमा के भीतर सभी ग्रामीण परिवारों को अच्छी तरह से कवर करने के
महत्वाकांक्षी लक्ष्य को पूरा करने की उम्मीद है।

उन्होंने कहा कि जल जीवन मिशन का परिणाम घरों में पाइप से पानी के कनेक्शन उपलब्ध कराने तक सीमित नहीं हो सकता। यह हर घर में एक सामाजिक क्रांति की शुरुआत कर रहा है। श्री कटारिया ने कहा कि सरकार बिना किसी भेदभाव के देश में सभी के लिए पानी की उपलब्धता सुनिश्चित कर रही है। उन्होंने कहा की इससे उन महिलाओं की स्थिति में सुधार हो रहा है जो अपने परिवारों के लिए पानी लाने के लिये लंबी दूरी तय करती थीं।  वास्तव में, गाँव स्तर की समितियाँ अपने-अपने गाँवों के लिए जल आपूर्ति बढ़ाने की योजनाएँ बनाने के लिए गठित की गई हैं।  ऐसी समितियों में महिलाओं के लिए 50 प्रतिशत भागीदारी सुनिश्चित की गई है। यह कदम महिलाओं को जल प्रबंधन से जुड़े महत्वपूर्ण निर्णय लेने के लिए सशक्त करेगा। मिशन में जल नेटवर्क के बुनियादी ढांचे जैसे पाइप, नल, पानी के पंप, भंडारण टैंक आदि में एक बड़ा निवेश शामिल है। यह कुशल/अर्ध कुशल कार्यबल जैसे पाइप फिटर, प्लंबर, इलेक्ट्रीशियन, पंप ऑपरेटर आदि के लिए एक बड़ी मांग पैदा करेगा। इसलिए, मिशन  ग्रामीण युवाओं के लिए कौशल प्रशिक्षण का एक घटक शामिल है ताकि वे अपना जीवनयापन कर सकें।

जल जीवन मिशन को सफलता की कहानी करार देते हुए, श्री कटारिया ने उल्लेख किया कि भारत अन्य विकासशील राष्ट्रों के साथ अपने अनुभव को साझा करने के लिए तैयार है।  उन्होंने ब्रिक्स राष्ट्रों से सरकार के स्तर पर और साथ ही नागरिक  संगठनों के बीच जल क्षेत्र में होने वाली नवीन और सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करने के लिए भी आह्वान किया। यह पानी के विवेकपूर्ण उपयोग और कुशल जल प्रबंधन प्रथाओं को विकसित करने के प्रति लोगों को जागरूक करेगा |

इस वेबिनार में प्रोफेसर प्रिंस विलियम मिशिकी, डीआर कांगो के माननीय मंत्री, यूलिया बर्ग सह- इंटरनेशनल बिजनेस एक्सेलेरेशन सेंटर, रूस के संस्थापक, पूर्णिमा आनंद अध्यक्ष, ब्रिक्स इंटरनेशनल फोरम के संस्थापक थे। राष्ट्रपति, इंडो-रशियन यूथ क्लब के लिए इंटरनेशनल फेडरेशन, अन्य के बीच फॉरेन ट्रेड फेडरल एसोसिएशन फॉर इकोनॉमिक डेवलपमेंट और फॉरेन ट्रेड ग्लोबल इकोनॉमिक ट्रेड (जर्मनी) के लिए वोल्कर त्सेपके सलाहकार। यह बताया गया है कि वर्तमान में ब्रिक्स मिशनों की पंद्रहवीं वर्षगांठ मनाई जा रही है।  भारत ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में 13 वें सम्मेलन का अध्यक्ष देश है और ब्रिक्स देशों को एकजुट करने वाले सामान्य लक्ष्यों के लिए प्रतिबद्ध है। ब्रिक्स दुनिया की प्रमुख उभरती हुई अर्थव्यवस्थाओं को एक साथ लाता है, जिसमें विश्व की जनसंख्या का 41 प्रतिशत शामिल है, विश्व जीडीपी का 24 प्रतिशत और विश्व व्यापार में 16 प्रतिशत से अधिक हिस्सेदारी है।