जीएसटी में टैक्स में भारी वृद्धि करने से देश में व्यापारी व उद्योग भारी मन्दी की चपेट में – बजरंग गर्ग

पंचकूला – व्यापार मण्डल के राज्य स्तरीय प्रतिनिधियों की एक आवश्यक बैठक व्यापार मण्डल के प्रान्तीय अध्यक्ष व अखिल भारतीय व्यापार मण्डल के राष्ट्रीय महासचिव बजरंग गर्ग की अध्यक्षता में सैक्टर-20 में हुई।

देश में जो उद्योग बन्द पड़े हैं व होने वाले हैं, सरकार उनको विशेष पैकेज देकर उन उद्योगों को बचाने के काम करे – बजरंग गर्ग

इस बैठक में देश में लगातार व्यापार व उद्योग जो पीछड़ रहा है, उस पर विचार किया गया। व्यापार मण्डल के प्रान्तीय अध्यक्ष बजरंग गर्ग ने उपस्थित व्यापारी प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि 70 सालों में देश सबसे ज्यादा आर्थिक मन्दी के दौर से गुजर रहा है। यह बात केन्द्र सरकार के निति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने भी मानी की देश में 70 सालों में सबसे बड़ा आर्थिक संकट है, जिसका मुख्य कारण जीएसटी टैक्स प्रणाली देश में लागू करके टैक्सों में भारी भरकम बढ़ोतरी करना है। प्रान्तीय अध्यक्ष बजरंग गर्ग ने कहा कि देश में लगातार व्यापार व उद्योग पिछड़ने के कारण लाखों लोग बेरोजगार हो गए हैं और आगे भी होने के कगार पर है। आज लगभग कम्पनीयों के शेयर बाजार में भारी गिरावट है। डॉलर के मुकाबले रुपया नीचले स्तर पर आया है। आज ऑटो सैक्टर, टैक्सटाईल इन्डस्ट्रीयल, कृषि उपज मिलें, यहां तक की पारले बिस्किट जैसी आदि कम्पनीयाँ भी मन्दी की मार झेल रही हैं। कर्मचारियों पर प्राईवेट कम्पनियों में नौकरी जाने का खतरा मंडरा रहा है। इतना ही नहीं पूरे देश में रियल स्टेट सैक्टर भारी नुक्सान में चल रहे हैं, जिसके कारण लगभग 75 प्रतिशत बिल्डर देश में फेल हो चुके हैं। बैंक भी व्यापारी व उद्योगपतियों को लोन देने में आना-कानी करने लग गए हैं। प्रान्तीय अध्यक्ष बजरंग गर्ग ने कहा कि केन्द्र सरकार को इस आर्थिक मन्दी से राहत दिलाने के लिए कठारे से कठोर कदम उठाने चाहिए, जिसमें सरकार को देश में व्यापार व उद्योग को बचाने के लिए व्यापारी व उद्योगपतियों को विशेष पैकेज दिया जाए और जीएसटी में जो भारी भरकम टैक्स की दरें हैं उन टैक्स की दरों में कमी की जाए। व्यापारी व उद्योगपति जो बैंक से लोन लेता है, लोन लेने पर जो भारी भरकम शर्तें रखी हुई हैं उसे सरल किया जाए। देश में जो फैक्ट्रीयाँ बन्द पड़ी हैं या जो बन्द होने की कगार पर हैं उनको सरकार विशेष योजना बनाकर उन्हें राहत देने का काम करे। देश के व्यापारियों से किसी प्रकार का अनुदान ना लेकर हर व्यापारी को सरकार कम से कम 5000 रुपये मासीक पैंशन योजना लागू करे। व्यापारी व उद्योगपतियों की दुकान में जितना भी माल है उस पूरे माल का सरकार अपने खर्च पर मुफ्त बीमा योजना लागू करे, इससे देश मन्दी की मार से उभरेगा और देश में व्यापार व उद्योग बढ़ेगा और लाखों बेरोजगारों को रोजगार मिलेगा और जो व्यापार व उद्योग लगातार देश में पिछड़ रहा है उससे राहत मिल सकेगी। इस बैठक में सिरसा जिला प्रधान हीरालाल शर्मा, अम्बाला प्रधान नीरू बढ़ेरा, कैथल प्रधान सिकन्दर लाल गुप्ता, हिसार जिला मण्डी प्रधान पवन गर्ग, पानीपत प्रधान लक्ष्मी नारायण गुप्ता, प्रदेश उप प्रधान केवल खरबन्दा यमुनानगर, प्रदेश सचिव राजेन्द्र ठकराल टोहाना, कृष्ण गुप्ता पंचकूला, प्रदेश युवा प्रभारी राहुल गर्ग, गोहाना प्रधान विनोद जैन, प्रदेश संगठन सचिव रमेश खुराना रोहतक आदि व्यापारी प्रतिनिधियों ने अपने विचार रखे।