डॉ राजकुमार वेरका ने कोरोना महामारी से सफाई कर्मचारियों तथा मजदूर वर्ग की सुरक्षा की मांग

 

चंडीगढ़ – पंजाब सरकार में कैबिनेट मंत्री का दर्जा रखने वाले विधायक एवं पंजाब वेयर हाउसिंग कारपोरेशन के चेयरमैन डॉ राजकुमार वेरका ने कोरोना महामारी से सफाई कर्मचारियों तथा मजदूर वर्ग की सुरक्षा को लेकर एक पत्र प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी तथा पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को लिखा है। डॉ वेरका ने इस वर्ग को भी छुट्टी देने की मांग की और अगर इमरजेंसी दौरान काम करवाया भी जाये तो सुरक्षा उपकरण देकर काम करवाने की अपील की। 
 
डॉ वेरका ने अपने पत्र में कहा है कि आज पूरा विश्व कोरोना महामारी से जूझ रहा है। जिसको लेकर हर देश चिंतित है और अपने देश के नागरिकों के स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए हर जरूरी कदम उठा रहे हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी इस महामारी से बचने के लिए कई जरूरी कदम उठाये हैं और प्रतिबन्ध लगाएं हैं। इस सबको मद्देनजर रखते हुए आपसे अपील करता हूँ कि सफाई कर्मचारी तथा मजदूर वर्ग एक ऐसा तबका है जिसको इस महामारी से बचाने के लिए विशेष कदम उठाने की जरूरत है। आज पुरे देश में सफाई कर्मचारी अधिकतर ठेकेदारी प्रथा के अंतर्गत कार्य कर रहे हैं। प्रशासन तथा ठेकेदारों द्वारा इन सफाई कर्मचारियों को कार्य के दौरान किसी भी तरह के सुरक्षा उपकरण उपलब्ध नहीं करवाए जाते हैं जिसमें मास्क, बूट, जैकेट, सेफ्टी बेल्ट, टोपी, दस्ताने आदि मुख्य हैं। 
डॉ वेरका ने लिखा कि वह राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के उपाध्यक्ष रह चुके हैं और उस समय पुरे देश के दौरे के दौरान इस तबके की दिक्कतों को बहुत नजदीक से देखा है। गंदगी में काम करने की वजह से इनके हालात बद से बद्द्तर हैं और ये पहले ही कई गंभीर बिमारियों से ग्रसित रहते हैं। कोरोना जैसी महामारी इस वर्ग को ज्यादा प्रभावित कर सकती है। इसलिए ये वर्ग भी छुट्टी का अधिकार रखता है। अगर इमरजेंसी में इनसे काम करवाया जाता है तो सरकार को सुनिश्चित करना होगा कि सफाई कर्मचारियों और मजदूर वर्ग को उनके कार्य के दौरान इस महामारी से बचाव के लिए जरूरी सुरक्षा सम्बंधित उपकरण उपलब्ध करवाए जाएं। इसके आलावा मैन्युअल स्केवेंजिंग को बिलकुल बैन किया जाना चाहिए। 
जिला प्रशासन को इस सम्बन्ध में विशेष हिदायतें जारी की जानी चाहिए ताकि इस गरीब वर्ग को इस महामारी से बचाया जा सके। ये भी सुनिश्चित किया जाये कि जो इस मामले में गैर जिम्मेवारना होगा, चाहे वो सम्बंधित अधिकारी या ठेकेदार हो, उसके विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाए। 
डॉ वेरका ने ये भी अपील की कि ये सन्देश हर राज्य सरकारों को भेजा जाये ताकि इस गंभीर महामारी से गरीब वर्ग की सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके।