तीज पर्व पर सतीश कुमार जेई को साईकिल गुरु अवार्ड से किया सम्मानित

चंडीगढ़ – तीज पर्व पर चंडीगढ़  शहर में साइकिल ट्रैक पर साइकिल चलाने के योगदान के लिए  बी एण्ड आर  चंडीगढ में कार्य रत जेई सतीश कुमार को  विशेष रूप से राष्ट्रीय स्तर की एनजीओ हिंद संग्राम परिषद  ने साइकिल गुरु अवार्ड से नवाजा। इस मौके पर  प्रशंसा पत्र तथा स्मृति चिन्ह देकर  सम्मानित भी किया है ।ताकि इससे अन्य लोगों में भी जागृति आ सके ।  इस अवसर पर परिषद के चेयरमैन विक्रांत पंडित , अध्यक्ष अवतार सैणी, इन्द्र जीत धीमान, इंजिनियर मनमोहन भटनागर, नरेंद्र राय, कर्ण व अन्य भी उपस्थित थे।  चंडीगढ इनिंजिरिग विभाग  में कार्यरत साइकिल गुरु सतीश कुमार  अब किसी भी पहचान के मोहताज नहीं है । सतीश कुमार का स्कूल में ही खेलों में पूरा रूझान था और हर तरह की खेल खेलने को तैयार रहते थे । एनसीसी में भाग लेकर गणतंत्रता  व स्वतंत्रता  दिवस पर भी हिस्सा लेते रहे।  पानीपत में मध्य  परिवार में जन्मे सतीश कुमार को स्कूल समय से ही साइकिल को चलाने का शौक था। लेकिन अब साइकिल गुरु लोगों के लिए प्रेरणादायक व मार्गदर्शक बन चुके है । पंजाब व हरियाणा के राज्यपाल व चंडीगढ के सलाहकार  वीपी सिंह बदनौर ने जून1997  में चंडीगढ़ में विज्ञान पथ पर साइकिल ट्रैक की शुरुआत की थी। उस समय पर साइकिल चलाकर  भाग लिया । उस वक्त उनके साथ उनके पुत्र ने भी  इसमें हिस्सा लिया जो बाद में चलकर साइकिल गुरु सतीश कुमार  ने साइकिल को अपनी जिंदगी का महत्वपूर्ण हिस्सा बना लिया है । साइकिल गुरु दिन में लगभग 25 किलोमीटर की साईकीलिंग करते हैं ।सुबह अपने कार्यालय तक ,वहां से फील्ड में भी साइकिल से ही कार्य करते हैं। गाड़ी चलाना तो वह लगभग भूल ही गए हैं । साइकिलिंग करना तो ओरों के लिए प्रेरणादायक बन चुका है । उनका कहना है किें इस ब्यूटीफुल शहर को जाम से और प्रदूषण ग्रहण लग गया  है । इसी से प्रेरित होकर अपने दोस्तों को भी साईकिल चलाने के लिए प्रेरित करते हैं । और  लोगों से अपील की है कि ज्यादा से ज्यादा साइकिल का प्रयोग करें ताकि शहर प्रदूषण रहित व स्वस्थ रहा सकें।इस लिए लोगों को जागरूक करने में जुटे हुए हैं