नयागढ़, राईरंगपुर (ओडिशा), हनुमानगढ़ (राजस्थान) एवं फरीदाबाद (हरियाणा) में नवनिर्मित केंद्रीय विद्यालय भवनों का वर्चुअल लोकार्पण समारोह

 
नई दिल्ली, बिस्वरंजन मिश्रा: आज नयागढ़, राईरंगपुर (ओडिशा), हनुमानगढ़ (राजस्थान) एवं फरीदाबाद (हरियाणा) में नवनिर्मित केंद्रीय विद्यालय भवनों का हुआ वर्चुअल लोकार्पण। लगभग 70 करोड़ रु की लागत से ओडिशा, राजस्थान एवं हरियाणा में स्थापित 04 केन्द्रीय विद्यालयों के नव-निर्मित भवनों को सौंपते हुए मैं गर्व का अनुभव कर रहा हूं। ये भवन आधुनिक कक्षा-कक्षों, प्रयोगशालाओं, कंप्यूटर प्रयोगशालाओं, पुस्तकालय, खेल-कूद एवं संगीत तथा दिव्यांग बच्चों हेतु आवश्यक सभी प्रकार की सुविधाओं से सुसज्जित हैं। निश्चित ही ये भवन विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास में सहायक सिद्ध होंगे। किसी भी संस्थान की पहचान केवल उसके भवन से ही नहीं होती बल्कि संस्थान से जुड़े छात्रों, शिक्षकों तथा अन्य संबंधित लोगों की व्यक्तिगत एवं सामूहिक उपलब्धियों से होती है।
लोकार्पित नए भवनों के परिवेश में सभी छात्र एवं छात्राएँ नई उमंग एवं ऊर्जा के साथ शिक्षा ग्रहण करेंगे तथा देश एवं विदेशों में अपने विद्यालय एवं देश का नाम रोशन करेंगे। 1963 में स्थापित KVS HQ शैक्षिक सेवा का अग्रणी एवं अनुकरणीय संस्थान बन चुका है। इस संगठन के अंतर्गत 1239 केंद्रीय विद्यालय संचालित हैं जो 25 क्षेत्रीय कार्यालयों के निर्देशन में अपने भीतर ‘लघु भारत’ को संजोये हुए हैं। इन्हें हम राष्ट्रीय एकता का प्रतीक भी कह सकते हैं।किसी भी संस्थान की ताकत, योग्यता एवं क्षमता का पता मुश्किल हालात में लिए गए उसके निर्णयों और कार्यों से होता है।
कोविड-19 के चुनौतीपूर्ण दौर में केंद्रीय विद्यालय संगठन ने विद्यालयी शिक्षा को डिजिटल माध्यम से अनवरत जारी रखकर सराहनीय कार्य किया है। यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के दूरदर्शी नेतृत्व में संस्तुत नई शिक्षा नीति के क्रियान्वयन की जिम्मेदारी अब केन्द्रीय विद्यालय जैसे शैक्षिक संगठनों तथा भारत सरकार की अन्य सभी संस्थाओं पर बढ़ जाती है। यह राष्ट्र की शिक्षा नीति है जिसकी सफलता हमारी सामूहिक जिम्मेदारी है। मेरा आह्वान है कि इंडिया फर्स्ट की सोच के साथ भारत को ज्ञान आधारित महाशक्ति बनाने के लिए आगे आएं।