नैशनल शेड्यूल्ड कास्टस एलायंस  और दलित संघर्ष मोर्चा ने कैप्टन सरकार के अड़ियल व्यवहार के खिलाफ दलित महापंचायत बुलाने का निर्णय

चंडीगढ़, 24 जनवरी: नैशनल शेड्यूल्ड कास्टस एलायंस और दलित संघर्ष मोर्चा ने आज लगातार 26 वें दिन कैप्टन सरकार  के खिलाफ धरना और सांकेतिक भूख हड़ताल की है।

छात्रवृत्ति घोटाला: अनुसूचित जाति के छात्रों का भविष्य खतरे में,मंत्री समूह मौन  …. कैंथ

नैशनल शेड्यूल्ड कास्टस एलायंस के अध्यक्ष परमजीत सिंह कैंथ ने कहा  कि धरना स्थल पर नेताओं की एक विशेष बैठक आयोजित की गई,संगठनों के परामर्श से 25 जनवरी को दलित महापंचायत बुलाने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि कैप्टन सरकार  कॉलेजों और विश्वविद्यालयों से संबंधित मुद्दों के समाधान के लिए अनुसूचित जातियों के छात्रों के साथ राजनीतिक पैंतरेबाजी नहीं होनी चाहिए ,मंत्रियों के समूह की कार्रवाई को सार्वजनिक किया जाना चाहिए ,क्योंकि मंत्रियों का समूह चुप है।

कैप्टन सरकार के खिलाफ धरना और सांकेतिक भूख हड़ताल 26वें दिन

कैप्टन सरकार को नीतिगत निर्णयों के दौरान केंद्र सरकार के 60-40 फार्मूले पर तुरंत अपना हिस्सा जारी करना चाहिए और  बिना किसी देरी के पिछले वर्षों का कॉलेजों और विश्वविद्यालयों के प्रबंधन को 309 करोड़ रुपये जारी करने चाहिए।

श्री कैंथ ने कहा कि प्रमाण पत्र व डिग्री और प्रवेश के लिए पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना के तहत लाखों छात्रों का संघर्ष तेज करने के लिए  सोमवार 25 जनवरी 2021 को दबाव बढ़ाने के लिए कैप्टन सरकार के खिलाफ दलित महापंचायत बुलाने का निर्णय लिया गया है। कैप्टन सरकार के खिलाफ रैली ग्राउंड 25 सेक्टर चंडीगढ़,दोपहर 12 बजे बैठक में पहुंचने  के लिए  सभी को एक खुला निमंत्रण दिया गया है।

उन्होंने आगे कहा कि पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति घोटाले की सीबीआई जांच होनी चाहिए। सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री  साधु सिंह धर्मसोत ने 63 करोड़ रुपये की अनियमितताएं की हैं। उन्होंने कहा कि इस योजना में 500 करोड़ रुपये का  भ्रष्टाचार और सीएजी ऑडिट रिपोर्ट 2018, पंजाब कॉलेजों और विश्वविद्यालयों द्वारा कैग रिपोर्ट के लिए जिम्मेदार कॉलेजों को धन उपलब्ध कराने के लिए राज्य सरकार की आलोचना की।

इस अवसर पर उपस्थित नेताओं में गुरपाल सिंह भट्टीए पूर्व आईएएस, राजेश बाघा, केवल कृष्ण आदिवाल ,लछमन दास  जत्ती,एमएसए रोहटा, कृपाल सिंह, दलीप सिंह बुचारे,जसविंदर सिंह राही, बग्गा सिंह फिरोजपुर ,प्रदीप अंबेडकर, धर्म सिंह  कलोर, गरीब सिंह, प्रीतम सिंह राठी, जरनैल सिंह खोखर, गुरसेवक सिंह मजरी, राजविंदर सिंह गड्डू,रांझा बख्शी,हरभजन दास आदि उपस्थित थे।