पानी के दुरुपयोग पर रोक लाज़मी: नरेंद्र खट्टर

 

रोहतक। 27 जुलाई: प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना, जल विकास घटक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री नरेंद्र कुमार खट्टर ने प्रदेश के तमाम किसान एवं जल उपभोक्ताओं से आह्वïान किया है कि वे पानी के दुरुपयोग पर रोक लगाएं, यह हम सबके लिए नितांत आवश्यक है। 

उन्होंने कहा कि इन दिनों धान के खेतों में जालपूर्ति तो एक जरुरत है लेकिन अन्य कार्यों केे लिए बेवजह पानी बहाया जा रहा है। शहरी व ग्रामीण क्षेत्र में हर दूसरे-तीसरे घर में लोगों ने सबमर्सिबल पंप लगवाए हैं। इन नलों से पानी बेवजह भी बहता रहता है। गलियों की सफाई करनी होती है या वाहन आदि की धुलाई करनी होती है तो बेतहाशा पानी बहाया जा रहा है।
श्री खट्टर ने बताया कि जनस्वास्थ्य विभाग की ओर से पेयजल आपूर्ति के लिए हर घर में पानी के कनेक्शन दिए गए हैं। इनमें बहुत से नलों पर टोटियां नहीं होती जिसके जरिए पानी फिजूलखर्च होता रहता है। मकान मालिक यानी उपभोक्ता इन नलों पर टोटियां नहीं लगवाते जिसकी वजह से पानी बेकार जाता है।
पानी के सभी उपभोक्ताओं से आग्रह किया जाता है कि वे अपने नलों पर टोटियां अवश्य लगवा लें। जितनी मात्रा में पानी की जरुरत हो लें उसके बाद उसे बंद कर दें। स्थानीय पंचायतों को इस दिशा में अपनी जिम्मेवारी से काम करना चाहिए।
श्री नरेंद्र खट्टर ने कहा कि पानी की बर्बादी को रोकना बहुत लाज़मी हो गया है। अगर इस ओर हमने ध्यान नहीं दिया तो आने वाली पीढिय़ों को गंभीर जल संकट का सामना करना पड़ेगा, जिसके जिम्मेवार हम सब होंगे। उन्होंने युवाओं से आग्रह किया कि वे मानवता के कल्याण के लिए ‘जल बचाओ अभियान’ को सफल बनाने का काम करें, क्योंकि ‘जल होगा तो कल होगा’।