पुलिस भर्ती में हुई धांधली, ‘डी’ ग्रुप व पुलिस भर्ती में मेरिट पर नौकरी देने का सरकारी दावा झूठा : राजीव गोदारा

चंडीगढ़ – स्वराज इंडिया के रष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष अजीत झा व हरियाणा राज्य अध्यक्ष राजीव गोदारा सोमवार की शाम को पंचकूला में 5 दिन से धरने पर बैठे उन अनाथ व अन्याय के शिकार आवेदकों से मिले व उन्हें न्याय दिलवाने के लिए हर सम्भव मदद करने का भरोसा दिलाया। 

हरियाणा सरकार ने 2018 में ‘डी’ ग्रुप व पुलिस भर्ती के लिए विज्ञापन जारी किया। जिसमें कहा गया कि जिन आवेदकों के पिता की मौत हो चुकी है उन्हें अतिरिक्त 5 अंक दिए जाएंगे । शर्त थी कि मृतक की उम्र मृत्यू की समय 42 साल से कम हो व आवेदक की उम्र उस समय 15 साल से कम रही हो। धरने पर बैठे युवाओं के साथ ही ऐसे अन्य आवेदक भी थे, जो उक्त नियम के अनुसार अतिरिक्त 5 अंक लेने के हकदार थे। मगर उन्हें ये 5 अतिरिक्त अंक नहीं दिए गए। जबकि ‘डी’ ग्रुप के आवेदकों को ये नम्बर दिए गए। पुलिस भर्ती के भी चुनिंदा लोगों को ये 5 अतिरिक्त अंक दिए गए।
नियमों की उल्लंघना कर अतिरिक्त 5 अंक न दिए जाने से अनेक आवेदक मेरिट में पीछे धकेल दिए गए। इस तरह भर्ती प्रक्रिया में हुई धांधली से पीड़ित युवा 8 अगस्त 2019 से धरने पर बैठे हैं मगर असंवेदनशील सरकार उनकी बात सुनने कोन तैयार नहीं है।
स्वराज इंडिया के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष अजीत झा व हरियाणा के राज्य अध्यक्ष राजीव गोदारा ने धरने पर बैठे अभ्यर्थियों से मुलाकात कर उनके पूरे मामले को सुना व समझा । जिसके आधार पर सरकार से हमारी मांग है कि जिन आवेदकों को नियमानुसार अतिरिक्त 5 अंक नहीं दिए गए हैं, उन्हें 5 अंक देकर नई मेरिट सूची तैयार की जाए। व उसी अनुसार नियुक्ति दी जाए।
धरने पर बैठे पुलिस कांस्टेबल भर्ती के आवेदकों ने दस्तावेज दिखाए कि पुलिया भर्ती के लिए जारी विज्ञापन में उक्त श्रेणी के आवेदकों को अतिरिक्त 5 अंक दिए जाने का प्रावधान है। ऐसा ही प्रावधान ‘डी’ ग्रुप की भर्ती के लिए जारी विज्ञापन में था। उपलब्ध दस्तावेज साबित करते हैं कि ‘डी’ ग्रुप के इस श्रेणी के पात्र आवेदकों को 5 अतिरिक्त अंक दिए मगर पुलिस भर्ती में इस श्रेणी के पात्र आवेदकों को 5 अतिरिक्त अंक नहीं दिए गए। दस्तावेज से यह भी साबित होता है कि यदि इन आवेदकों को ये अतिरिक्त 5 अंक दिए जाते तो अनेक अभ्यर्थी मेरिट लिस्ट में ऊपर आते व चयनित सूची में स्थान पाते।