भारत के प्रथम राष्ट्रपति डा.राजेन्द्र प्रसाद की 136 जयंती गांधी स्मारक भवन में मनाई बड़े श्रद्धापूर्वक 

 
चण्डीगढ़: भारत के प्रथम राष्ट्रपति डा. राजेन्द्र प्रसाद की 136वीं जयंती गांधी स्मारक भवन में बड़े श्रद्धापूर्वक मनाई । समारोह के मुख्य अतिथि श्री आनन्द कुमार शरण, सचिव गांधी स्मारक निधि पंजाब, हरियाणा व हिमाचल प्रदेश थे जबकि अध्यक्षता वरिष्ठ साहित्यकार प्रेम विज ने की । डा. देवराज त्यागी निदेशक गांधी स्मारक भवन चंडीगढ़ ने श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि डा. राजेन्द्र प्रसाद भारत के प्रथम राष्ट्रपति एवं महान भारतीय स्वतंत्रता सेनानी थे। इन्होंने भारतीय संविधान के निर्माण में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया था।
सचिव आनन्द कुमार शरण ने बताया कि गांधी जी की मृत्यु के बाद उनके स्मरण में गांधी स्मारक निधि का गठन किया। गांधी स्मारक निधि के प्रथम अध्यक्ष डा.राजेन्द्र प्रसाद रहे। उनके मार्गदर्शन में गांधी के रचनात्मक कार्योे को विस्तार दिया। उन्होंने बताया कि उनके साथ उनके परिवार के पारिवारिक संबंध भी थे। 28 फरवरी 1963 में सदाकत आश्रम पटना में उनका निधन हुआ। सभा की अध्यक्षता करते हुए वरिष्ठ साहित्यकार श्री प्रेम विज ने कहा कि वे महात्मा गांधी की निष्ठा, समर्पण एवं साहस से बहुत प्रभावित थे उन्होंने 12 वर्षों तक राष्ट्रपति के रूप में कार्य किया। उनको भारत सरकार द्वारा सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से नवाजा गया । इस अवसर पर योग गुरू नरेश कुमार, डा. रमेश शर्मा , पापिया चक्रवर्ती, आनन्द राव, धर्मपाल , अमित एवं अन्य लोगों की उपस्थिति सराहनीय रही।