भास्कर राव सम्मेलन: बंगाल के जादू से दर्शक सराबोर व् तबला श्रीखोल जुगलबंदी और सरोद जुगलबंदी की खूबसूरत प्रस्तुति

चंडीगढ़: प्राचीन कला केन्द्र द्वारा टैगोर थियेटर में आयोजित किए जा रहे 50वें भास्कर राव सम्मेलन के पांचवें दिन कोलकाता के जानेमाने सरोद वादक श्री आलोक लहरी एवं श्री अभिषेक लहरी की सरोद जुगलबंदी एवं कोलकाता के ही बर्मन बंधुओं ने तबला श्रीखोल जुगलबंदी का दर्शकों ने खूब आनंद उठाया । इस कार्यक्रम का आयोजन केन्द्र के अधीकृत यूटयूब चैनल, फेसबुक पेज पर भी प्रसारित किया गया ।

कार्यक्रम की शुरूआत बर्मन बंधुओं के तबला श्रीखोल जुगलबंदी से हुई । रूपक ताल में जोरदार शुरूआत करके इस जोड़ी ने रेले कायदे,पलटे इत्यादि पेश किए । इस बेजोड़ जुगलबंदी देखकर दर्शकों ने खूब आनंद उठाया । उपरांत कुछ घराने बंदिशों से दर्शकों का मनोरंजन किया । कार्यक्रम के अंत मे तीन ताल में निबद्ध लयकारी सवाल जवाब से कार्यक्रम का दमदार समापन करके इस जोड़ी ने खूब तालियां बटोरी ।

इस कार्यक्रम के दूसरे भाग में आलोक लहरी एवं अभिषेक लहरी के पिता पुत्र की जोड़ी ने मंच संभाला । इन्होंने राग रागेश्री को चुना और आलाप से शुरू करके आलाप,जोड़ की बेजोड़ प्रस्तुति पेश की । उपरांत झपताल और तीन ताल में मधुर गतें
पेश की । कार्यक्रम के अंत में इन्होने राग काफी में निबद्ध रूपक ताल में रचना पेश करके खूब वाहवाही बटोरी ।

कार्यक्रम के अंत में कलाकारों को सम्मानित किया गया ।