मलेरिया व डेंगू से बचाव हेतु स्वास्थ्य विभाग द्वारा सरकारी कार्यालयों में व शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में चलाया पानी के कूलर व कन्टेनर चैकिंग का विषेष अभियान।

पंचकूला, 27 जुलाई- सिविल सर्जन. पंचकूला डाॅं0 जसजीत कौर ने बताया कि मलेरिया व डेंगू से बचाव हेतु स्वास्थ्य विभाग द्वारा चलाए गए विशेष अभियान के तहत सैक्टर 1ए 2ए 3ए 4ए 5ए 6ए 7ए 8ए 9ए 10 व 11 में घर घर जाकर कूलर व कन्टेनर सरकारी कार्यालयों व शहरी एवं ग्रामीण एरिया में पानी के कूलर व कन्टेनर चैक करने हेतु विषेष अभियान चलाया गया।
सिविल सर्जन ने बताया कि  बस स्टैंड, पुलिस कालोनीए फूड एण्ड सप्लाई विभागए कन्फैडए आॅफिसए हुडडा आॅफिस इंडियन एक्सप्रैस आॅफिसए सरकारी प्रैस इत्यादि कार्यालयों में पानी के कन्टेनर व कूलर चैक किये गये। बायोलोजिस्ट अनिता वासुदेवा व हैल्थ इन्सपैक्टर जसबीर सिहॅं की डयूटी जिला के सभी एरिया में मलेरिया व डेंगू की गतिविधियों के निरीक्षण करने हेतु लगाई गई है। सरकारी कार्यालयों में पनपे लारवा की वजह से आस पास के रिहायाषी सैक्टरों में मच्छरों का प्रकोप ज्यादा रहता है तथा मलेरिया व डेंगू के केसिज होने की आषंका रहती है। सिविल सर्जन ने मलेरिया व डेंगू की रोकथाम हेतु स्वास्थ्य विभाग द्वारा उठाये जा रहे प्रभावी कदमों की विस्तार से जानकारी देते हुए विस्तार से बताया कि जैसेरू.
 विभाग की टीमों द्वारा सरकारी कार्यालयों में पानी के कन्टेनर व कूलर चैकिंग शुरू कर दी है।
 शहरी क्षेत्र पंचकूला में स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की 10 टीमों द्वारा सभी घरों में जाकर कुलर टैंकियाॅं व पानी के अन्य कन्टेनर चैक किये गये। जहाॅ .जहाॅ पानी खडा पाया वहाॅं .वहाॅं एन्टी लारवा दवाई का छिडकाव किया गया व नोटिस दिये गये हैं। अब तक शहरी क्षेत्र पंचकूला में 14 लोगों को लारवा पाये जाने पर नोटिस दिये गये हैं।
  ग््राामीण क्षेत्रों भी स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की 28 टीमों का गठन किया गया है। ये टीमों गाॅंवों में जाकर पानी के कन्टेनरए कूलर व टैंकियाॅं चैक कर रहे हैं। जहाॅं भी लारवा पाया जाता है उसे खाली करवाया जाता है और नोटिस दिया जाता है। अब तक ग्रामीण क्षेत्र में 59 लोगों को नोटिस दिये गये हैं।
  मलेरिया व डेंगू की रोकथाम के उपायों के बारे में स्वास्थ्य षिक्षा दी जा रही है।
  स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं द्वारा घर घर जाकर सर्वे किया जा रहा है तथा बुखार के मरीजो की रक्त पटिटकाए बनाई जा रही हैं। जिला पंचकूला में वर्ष 2020 में 25390 रक्त पटिटकाएॅं बनाई गई हैं। जिला पंचकूला में अभी तक मलेरिया का कोई भी केस नही निकला है।
 सिविल सर्जन पंचकूला डाॅं0 जसजीत कौर ने बताया कि विभाग द्वारा किये जा रहे सार्थक प्रयासों के साथ साथ मलेरिया व डेंगू पर नियन्त्रण करने के लिए जनता का जागरूक होना भी आवष्यक है तथा अन्य विभागो का सहयोग भी बहुत ही जरूरी है।
सिविल सर्जनए पंचकूला ने यह भी बताया कि
 घर के आस पास पानी इक्टठा न होने दें।
 घर के अन्दर व बाहर पानी 7 दिन से अधिक न खडा होने देंए क्योकि मादा मच्छर खडे पानी में ही अन्डे देती है।
 सप्ताह में रविवार को क्तलपदह क्ंल के तौर पर मनाया जाये यानि हर रविवार को पानी के सभी बर्तानों जैसे टंकियों घडे कूलर गमले कन्टेनर इत्यादि को खाली करें।
 बेकार पडें टायर व कन्सतर इत्यादि को नष्ट कर दें।
 षरीर को कपडों से पूरी तरह ढककर रखें।
 पानी के बतर्ना को अच्छी तरह ढककर रखें।
 घरों की खिडकियों तथा दरवाजों पर जालियाॅं लगवायें।
 सोेते समय मच्छरदानी का प्रयोग करें।
 एक जगह रूके हुए पानी में मिटटी को तेल या काला तेल डाल दें।
इसके अतिरिक्त सिविल सर्जन पंचकूला डाॅं0 जसजीत कौर ने बताया कि मलेरिया व डेंगू रोकथाम हेतु हाई .रिस्क एरिया जैसे पुराना पंचकूलाए राजीव कालोनीए इन्दिरा कालोनी अभयपुरए बुढनपुरए घग्घर. हटसए कौषल्यादृहटसए ईट भटटे इत्यादि एरिया में विभाग द्वारा विषेष अभियान चलाया जा रहा है। जिला पंचकूला में डेंगू का अभी तक कोई केस नही पाया गया है।
अतरू सिविल सर्जन पंचकूला की ओर से जनता से अपील की जाती है कि मलेरिया व डेंगू की रोकथाम में जनता विभाग का पूरा सहयोग करे ताकि जिला पंचकूला में मलेरिया व डेंगू पर नियन्त्रण किया जा सके।