मुख्यमंत्री से कॉलेजों व विश्वविद्यालयों की आधी फीस माफ की मांग

चंडीगढ़ 4 अगस्त। अग्रवाल वैश्य समाज स्टूडेंट आर्गेनाईजेशन ने प्रदेश के मुख्यमंत्री से मांग की है कि कोरोना महामारी के दौरान कक्षाएं न लगने और प्रदेश की जनता के विषम आर्थिक हालात के दृष्टिगत हरियाणा के सभी कॉलेजों व विश्वविद्यालयों की आधी फीस माफ की जाए। इस संदर्भ में विस्तृत जानकारी देते हुए आर्गेनाईजेशन के प्रदेश अध्यक्ष वेदप्रकाश गर्ग ने बताया कि फीस माफ करवाने के लिए आर्गेनाईजेशन द्वारा मुख्यमंत्री को ज्ञापन दिया गया है तथा साथ ही प्रदेश में स्थापित सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों को भी ज्ञापन भेजकर मांग की गई है कि वह भी अपने स्तर पर प्रदेश सरकार से समन्वय स्थापित कर छात्र की फीस माफी की मांग को पूरा करें। उन्होंने कहा कि जैसा कि विदित है कि प्रदेश में सभी सरकारी और गैर सरकारी कॉलेज व विश्वविद्यालय कोरोना महामारी के चलते बंद हैं और पिछले चार माह से लोगों के रोजगार के साधन बंद पड़ें है और लोगों को जीवन यापन करने में ही बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इन परिस्थितयों में छात्रों की आधी फीस माफ होने से छात्रों व उनके परिवारजनों को बहुत बड़ी राहत मिलेगी। उन्होंने कहा कि इससे पूर्व हरियाणा सरकार छात्र हितों में प्राइवेट एवं सरकारी स्कूल, कॉलेज के छात्रों के लिए जनरल प्रोमोशन जैसी छात्र हितों की मांगों को पूरा कर चुकी है। अग्रवाल वैश्य समाज स्टूडेंट आर्गेनाईजेशन उम्मीद करता है कि कोरोना के चलते पैदा हुए आर्थिक संकट में छात्रों व उनके परिवारजनों को राहत देते हुए प्रदेश सरकार इस मुद्दें पर गंभीरता से विचार करेगी और छात्र हितों के पक्ष में उपरोक्त फीस माफी की घोषणा कर बड़ा फैसला करेगी। फीस माफी की मांग के साथ अग्रवाल वैश्य समाज स्टूडेंट आर्गेनाईजेशन ने महिला महाविद्यालयों को खोलने की घोषणा का स्वागत करते हुए महिला महाविद्यालयों के समान्तर लडक़ों के लिए भी ज्यादा से ज्यादा महाविद्यालय खोले जाने की मांग की है। उन्होंने कहा कि शिक्षा पर समान अधिकार के लिए ये जरूरी है कि दोनों ही स्तर पर जितना हो सकें उतने महाविद्यालय खोले जाएं ताकि युवा वर्ग शिक्षा के मार्ग पर चले ना कि शिक्षा के अभाव में अपराध के मार्ग पर। इसके अलावा वेदप्रकाश गर्ग ने अग्रोहा में बनने वाले कन्या महाविद्यालय का नाम भी महारानी माधवी के नाम पर करने की मांग की।