मोदीजी डिजिटल इंडिया की बात करते है और पोस्टल डिपार्टमेंट का ‘स्पीड पोस्ट’ आजभी बैलगाडी चला रहा है?

मुंबई। आज हर जगह चाहे रेलवे हो, रोड पर कचरा फेकना हो या पार्किंग हो जनता जहाँ भी गलती करे उससे फाईन वसूला जा रहा है। लेकिन यदि सरकारी डिपार्टमेंट गलती करे तो क्या ? एक व्यक्ति एस.शर्मा ने ८ अगस्त २०१९ को एस पी मालाड एस ओ (४०००६४) से दो स्पीड पोस्ट एक ( इ एम ८८७११७८५०इन डोम्बिवली) और दूसरा ( इ एम ८८७११७७३५ इन )भेजा था,जोकि १३ अगस्त २०१९ तक नहीं पंहुचा। जिसको ट्रैक करने के लिए रसीद पर दिए नंबर १८००२६६६८६८ पर फोन किया तो जवाब आया नंबर बंद है। एस पी मालाड एस ओ पोस्ट ऑफिस में मास्टर मौर्या से मिला तो जवाब मिला कि लेटर कहाँ पंहुचा है, यह नेट पर अपलोड नहीं है, लेकिन मिल जाएगा। लेकिन कब मिलेगा ? इसका जवाब उनके पास नहीं था। आखिर देश की जनता को ‘स्पीड पोस्ट’ के नाम पर क्यों गुमराह किया जा रहा है ? आखिर स्पीड पोस्ट कितने दिनों में पहुँचता है ? हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीजी डिजिटल इंडिया की बात करते है और पोस्टल डिपार्टमेंट का ‘स्पीड पोस्ट’ आजभी बैलगाडी चला रहा है? या बैलगाड़ी से स्पीड पोस्ट भेजा जा रहा है ? आखिर पोस्टल डिपार्टमेंट को क्यों नहीं पता है कि स्पीड पोस्ट कहा है और कब तक पहुंचेगा? आज १५ अगस्त को ‘राखी’ का त्यौहार है।१५ अगस्त को ‘राखी’ का त्यौहार को देखते हुए, पोस्ट ऑफिस खुला रक्खा जाय। यदि लोगों ने राखी इत्यादि या जरुरी सामान पोस्ट से भेजते है तो क्या कब पहुंचेगा, यह उनको नहीं पता होना चाहिए और खासकर करके स्पीड पोस्ट से ? जब जनता कुछ गलती करे तो फाइन दे तो सरकारी डिपार्टमेंट जब गलती करे तो उसके लिए भी फाइन जनता को नहीं मिलाना चाहिए ?