शिक्षा परिदृश्य चुनौतियां और संभावनाएं विषय पर होगी वेबीनार

चंडीगढ़, 22 जुलाई। अग्रवाल वैश्य समाज संस्था की ओर से आगामी शिक्षा परिदृश्य चुनौतियां और संभावनाएं विषय पर वेबीनार आयोजित किया जा रहा है। इस वेबीनार में चौधरी बंसीलाल विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. आरके मित्तल और जेसी बोस यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टैक्नोलॉजी वाईएमसीए फरीदाबाद के कुलपति प्रो. दिनेश कुमार मुख्य वक्ता होंगे।
अग्रवाल वैश्य समाज के प्रदेश अध्यक्ष अशोक बुवानीवाला के मुताबिक आगामी बुधवार 29 जुलाई को यह वेबीनार आयोजित होगा। इसका समय सुबह 11 बजे होगा। जूम ऐप पर यह वेबीनार आयोजित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि शिक्षा परिदृश्य चुनौतियां और संभावनाएं इस वेबीनार का विषय रखा गया है। कोरोना महामारी के बीच अन्य क्षेत्रों के साथ-साथ शिक्षा के क्षेत्र में भी काफी बाधाएं आई हैं। उच्च शिक्षा हासिल करने वाले युवाओं के लिए चुनौती बनकर यह कोरोना काल आया है।
अग्रवाल वैश्य समाज की ओर से 29 जुलाई को किया जाएगा वेबीनार
ऐसे में शिक्षा जगत को अब यह सोचना होगा कि आखिर आने वाले समय में शिक्षा का कैसा, किस तरह का प्रारूप तैयार किया जाए, जो कि हमारी भावी पीढ़ी को आगे बढ़ाए। छात्र इकाई के अध्यक्ष वेद प्रकाश गर्ग ने कहा कि यह ठीक है कि कोरोना महामारी से बहुत कुछ प्रभावित हुआ है। लेकिन ऐसे में हम अपने देश की तरक्की को रोक नहीं सकते। शिक्षा तरक्की का एक माध्यम है। अगर शिक्षा की व्यवस्था को दुरुस्त, सुदृढ़ नहीं किया गया तो इसका नुकसान हमें कई दशकों तक उठाना पड़ सकता है। कोरोना महामारी से बचते हुए शिक्षा को कैसे विद्यार्थियों तक पहुंचाया जाए, कैसी व्यवस्था हो कि विद्यार्थी स्कूल, कालेज, यूनिवर्सिटी में जाकर अपनी पढ़ाई को फिर से पटरी पर लेकर आएं, यह सब इस वेबीनार के जरिए शिक्षाविदें से जाना जाएगा। इस वेबीनार का लाइव प्रसार फेसबुक सोशल मीडिया पर भी होगा।