श्रीगुरु रविदास जी का मंदिर तोडऩे पर जेजेपी ने जताया रोष।

पंचकूला 14 अगस्त (संदीप सैनी) दिल्ली के तुगलकाबाद में ऐतिहासिक एवं प्राचीन सतगुरू रविदास महाराज के मंदिर गिराए जाने पर जननायक जनता पार्टी ने जिला पंचकूला में इस कृत्य की घोर निन्दा की है। जननायक जनता पार्टी के जिला शहरी प्रधान ओपी सिहाग एवं जिला ग्रामीण प्रधान भाग सिंह दमदमा ने कहा है कि सतगुरु शिरोमणी रविदास महाराज अकेले दलित समाज के गुरू व महापुरूष नहीं थे, वह भारत के सभी समाजों के आदरणीय व अग्रणीय युग पुरूष थे। सिहाग ने कहा कि गुरु रविदास जी ने ने उस समय भारतीय समाज में फैली कुरीतियों व असमानता के खिलाफ आवाज बुलंद  की तथा समाज के दबे कुचले लोगों में चेतना लाने का कार्य किया। उनके प्राचीन मंदिर को तोडक़र सरकार ने उनके करोड़ों अनुयायियों की भावनाओ को ठेस पहुचाई है। अगर सरकार चाहती तो इस केस में उच्चतम न्यायालय में रिव्यू पीटीशन डाल सकती थी, उच्चतम न्यायालय के आदेश तो सतलुज यमुना लिक नहर के बनाने के तथा हरियाणा को पूरा पानी देने के भी बहुत साल पहले पारित किए हुए है, परंतु आज तक वह आदेश फाइलों में ही धूल फांक रहे हैं। ओपी सिहाग व भाग सिंह दमदमा ने सरकार से मांग की है कि मंदिर को फिर से बनाया जाए, जमीन बारे कानून बनाकर जमीन श्रीगुरु रविदास सभा को सौंपी जाए। जेजेपी इस मुद्दे पर दलित समाज के साथ खड़ी है तथा जब तक सरकार इस बारे कोई ठोस कार्यवाहीं  नहीं करती। इस मांग को मनवाने के लिए जो भी आंदोलन किया जाएगा, हम दलित भाइयों का पूरा साथ निभाएंगे।