सत्तारुढ गठबंधन के जुमलों के चलते हरियाणा देश में बेरोजगारी में नंबर एक राज्य बना: योगेश्वर शर्मा

पंचकूला, 04 जनवरी: आम आदमी पार्टी का कहना है कि हरियाणा सरकार बीते सात सालों में राज्य के युवाओं को नौकरियां दे ही नहीं पाई। यही कारण है कि आज हरियाणा बेरोजगारी में देश में नंबर एक राज्य बन गया है। पार्टी का कहना है कि प्रदेश में कार्यरत एचपीएससी तथा एचएसएससी जैसे भर्ती आयोग भर्तियों को सिरे चढ़ा ही नहीं पा रहे। ऐसे में बेरोजगारी बढऩा स्भाविक सी बात है। जबकि प्रदेश की मनोहर लाल के नेतृत्व वाली भाजपा और जजपा की सरकार लगातार यह झूठे दावे करती आई है कि उनके राज में युवाओं को रोजगार मिल रहा है। मगर उनके इस दावे की पोल सेंटर फॉर मॉनटरिंग इंडियन इकानॉमी की ओर से जारी रिपोर्ट में खुल गई है।

भाजपा और जजपा की सरकार लगातार यह झूठे दावे करती आई है कि उनके राज में युवाओं को रोजगार मिल रहा है, मगर उनके इस दावे की पोल सेंटर फॉर मॉनटरिंग इंडियन इकानॉमी की ओर से जारी रिपोर्ट में खुल गई

यह बात आज यहां जारी एक ब्यान में आम आदमी पार्टी के उत्तरी हरियाणा जोन के सचिव योगेश्वर शर्मा ने कही। उन्होंने कहा कि भाजपा अपने नाम के अनुसार यानि कि भारतीय जुमला पार्टी को पूरी तरह से चरितार्थ कर रही है। राज्य में सत्तारुढ गठबंधन की ओर से लगातार बेरोजगारों को रोजगार देने के दावे किये जाते रहे हैं। मगर हकीकत में ऐसा नहीं हो रहा था। यह बात जब विपक्ष कहता था तो सरकार झूठे आंकड़े पेश करके रोजगार देने की बात करती थी,मगर अब उसकी इस झूइे दावे की पोल सेंटर फॉर मॉनटरिंग इंडियन इकानॉमी की ओर से जारी रिपोर्ट में खुल गई। उन्होंने कहा कि विपक्ष खासकर आम आदमी पार्टी तो शुरु से ही कहती आ रही है कि बेरोजगारी,भ्रष्टाचार, अपराध में हरियाणा नंबर एक है। युवाओं को रेाजगार देना तो एक तरफ जिनके पास रोजगार है, वे ही अपनी अपनी नौकरियां बचाने के लिए सडक़ों पर उतर कर संघर्ष करते नजर आ रहे हैं। जबकि चुनावों में इस गठबंधन ने युवाओं से रोजगार देने का वायदा किया था। उन्होंने कहा कि प्रदेश का युवा वर्ग इस सत्तारुढ गइबंधन को अपने साथ किये गये इस धोखे के लिए कभी माफ नहीं करेगा और जिस तरह से उसे वह सत्ता के द्वार तक लेकर आया था, यही युवा अब उसे सत्ता से बाहर का रासता भी दिखायेगा। उन्होंने कहा कि देश भर में बेरोजगारी की दर जहां 7.91 प्रतिशत पर पहुंच गई है, वहीं हरियाणा में यह दर 32.5 प्रतिशत तक पहुंच चुकी है जोकि काफी भयावह स्थिति है। उन्होंने कहा कि राज्य में पहली बात तो रोजगार के अवसर ही नहीं मिल रहे अगर भर्ती निकलती भी है तो उसके पर्चे लीक हो जाते हैं अथवा नौकरियां बेचने का मायाजाल किया जाता है। ऐसे में प्रदेश का बेरोजगार हताशा में अपनी दिशा भटक रहा है। उन्होंने कहा कि यही कारण है कि राज्य में नशा माफिया को पनपने का अवसर मिल रहा है,क्योंकि अपनी हताशा के चलते बहुत सा युवा रासता भटक कर नशा करने लगा है अथवा अपराधिक गतिविधियों में संल्पित हो रहा है।