समस्या समाधान टीम ने प्रशासन से मांगी पेड़ों के पास से कंक्रीट हटाने की परमिशन।

 
 
चंडीगढ़: पर्यावरण को बचाने और उसको स्वच्छ बनाने के लिए शहर की समाज सेवी संस्था समस्या समाधान टीम ने “सांसे हो रही है कम, आओ पेड़ लगाए हम” मुहिम के तहत वृक्षारोपण कार्यक्रम शुरू किया हुआ है। कल समस्या समाधान टीम ने अपने वरिष्ठ सदस्य ओंकार सैनी के जन्म दिवस के मौके पर पर्यावरण प्रेमी प्रवीन कि मदद से सुखना झील से रोक गार्डन वाले रास्ते पर अलग अलग प्रजातियों के पौधे लगाए। इस मौके पर समस्या समाधान टीम के शिशुपाल, मालविंदर सिंह, मुकेश मिश्रा, राज पांडे,गुरदेव यादव,बबलू वर्मा आदि ने पौधे लगा कर मुहिम को आगे बढ़ाया। इस मौके पर मनोज शुक्ला व शिशुपाल ने कहा कि एक पौधे को पेड़ बनने में वर्षों लग जाते है, जो हमारे जीवन के लिए बहुमूल्य है। मगर चंडीगढ़ में प्रशासन और नगर निगम की लापरवाही के कारण हर रोज पेड़ नष्ट हो रहे है। माननीय पंजाब हरियाणा हाई कोर्ट ने बाकायदा ऑर्डर जारी करके प्रशासन को हुकम दिया था कि पेड़ो कि जड़ों के साथ कम से कम एक मीटर तक कोई भी पक्की या कंक्रीट से बनी चीज नहीं होनी चाहिए परंतु चंडीगढ़ प्रशासन इस आदेश को अभी तक लागू नही करवा पाया है। चंडीगढ़ सचिवालय के मुख्य गेट के सामने लगे पेड़ो समेत बहुत से पेड़ो कि जड़ों को पूरी तरह कंक्रीट से ढका हुआ है जिस कारण पेड़ हर रोज तिल तिल कर मर रहे है। हमने पहले भी चंडीगढ़ प्रशासन समेत सभी विभागों के मुख्य अफसरों को चिट्ठी लिख के इसको ठीक करने को कहा है, परंतु अभी तक इसका कोई उपाय नहीं हुआ है। अब हम चंडीगढ़ प्रशासन समेत सभी विभागों को पुनः चिट्ठी लिख कम मांग करेंगे कि अगर आपके पास पेड़ो को बचाने के लिए खुदाई करने वाले कर्मचारियों कि संख्या कम है तो हमारी संस्था के वॉलंटियर्स निशुल्क प्रशासन की सेवा करने के लिए तैयार है और हम फ्री में सभी पेड़ो के आस पास से एक मीटर कंक्रीट हटाने को तैयार है, बस प्रशासन हमे ये सब करने की आज्ञा दे दे। अब देखते है कि क्या चंडीगढ़ प्रशासन इस मानसून के सीजन में पेड़ो के साथ से कंक्रीट हटा पाएगा या पेड़ ऐसे ही मरते रहेंगे।