सर्वसम्मति से गुलशन डंग को राष्ट्रीय जन उद्योग व्यापार संगठन प्रदेश अध्यक्ष चुना गया

पानीपत, 18 अक्तूबर: राष्ट्रीय जन उद्योग व्यापार संगठन के मंथन के दौरान आज प्रदेशभर के व्यापारियों की उपस्थिति में 21 सदस्यीय कार्यकारिणी के साथ सर्वसम्मति से गुलशन डंग को प्रदेश अध्यक्ष चुना गया। स्थानीय डेज होटल में आयोजित इस व्यापारिक मंथन में आज राष्ट्रीय जन उद्योग व्यापार संगठन की प्रदेश की कार्यकारिणी के चयन में ट्रेड यूनियन, हैंडलूम सेक्टर, पावर लूम, इलेक्ट्रॉनिक्स, ट्रांसपोर्ट एसोशिएशन, पट्रोलियम एसोसिएशन, किराना एसोसिएशन तथा प्रदेश के प्रत्येक जनपद प्रतिनिधि द्वारा प्रांतीय कार्यकारिणी के लिए नामों के सुझाव दिए गए। सुझाव पश्चात संगठन के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष अशोक बुवानीवाला व राष्ट्रीय महामंत्री विकास गर्ग सभी नामों की चर्चा करते हुए व्यापारियों की समस्याओं को लेकर संघर्ष करने व उनके बीच रहने वाले गुलशन डंग के नाम का प्रस्ताव रखा गया। जिसके उपरांत संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित गुप्ता द्वारा गुलशन डंग के नाम का अनुमोदन किया गया जिसका सभी संगठनों के प्रतिनिधियों ने सर्वसम्मति से हाथ उठाकर जोरदार तालियों के साथ स्वागत किया। प्रदेश अध्यक्ष की घोषणा पश्चात संगठन की 21 सदस्य कार्यकारिणी का चयन भी किया गया।
प्रदेश कार्यकार्यकारिणी के गठन के पश्चात राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित गुप्ता ने प्रदेश के व्यापारियों की समस्याओं को उठाते हुए केन्द्र व प्रदेश सरकार के समक्ष रखा। अपना संबोधन देते हुए उन्होंने कहा कि कोविड-19 के इस दौर में देशभर का व्यापार जिन मुश्किल हालात में गुजर रहा है, उससे व्यापारी वर्ग के सामने बड़ा आर्थिक संकट खड़ा हो गया है। हालात यहां तक पहुंच गए है कि व्यापारिक प्रतिष्ठान तथा उद्योगों द्वारा श्रमिकों को लगातार पूरे वेतन का भुगतान भी एक विकराल समस्या बन गया है। जिसे देखते हुए राष्ट्रीय जन उद्योग व्यापार संगठन मांग करता है कि आर्थिक मंदी के इस दौर में श्रमिकों को 50 प्रतिशत वेतन का प्रावधान केन्द्र व प्रदेश सरकार द्वारा व्यापारियों को मदद के रूप में किया जाए। इस महामारी की अवधि में व्यापारियों द्वारा कर्मचारी को दिए गए वेतन को वित्तीय वर्ष के लाभ और हानि वक्तव्य में पूंजीगत हानि में माना जाए। अमित गुप्ता ने कहा कि पूरे विश्व की निगाहें भारत के खुदरा बाजार पर गिद्ध की तरह लगी हुई है जो कि भारत के खुदरा कारोबारियों के लिए घातक सिद्ध हो रही है वर्तमान में रिलायंस फेसबुक के बीच हुए समझौते से खुदरा व्यापार दम तोड़ता हुआ नजर आएगा। देश के 6.30 करोड़ व्यापारी व उनमें कार्यरत 30 करोड़ से अधिक कर्मचारी बेरोजगार हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि भारत सरकार विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियों पर तथा भारतीय ई-कॉमर्स कंपनियां जिनका समझौता विदेशी कंपनियों से है उन सभी कंपनियों पर 18 प्रतिशत अतिरिक्त कर लगाकर देश के खुदरा व्यापार को बचाने का काम करें। मंथन में विशेष रूप से उपस्थित पूर्व मंत्री सुभाष बत्रा ने गुलशन ढंग को संगठन का नया प्रदेश अध्यक्ष चुने जाने पर बधाई दी। उन्होंने कहा कि गुलशन डंग हमेशा व्यापारियों के दु:ख-दर्द में साथ खड़ें मिलते है। उनके नेतृत्व में निश्चित तौर पर प्रदेश के व्यापारियों की आवाज बुलंद होगी।
राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष अशोक बुवानीवाला ने अपने संबोधन में प्रदेश के कोने-कोने से पहुंचे सभी व्यापारियों तथा ट्रेड यूनियनों का स्वागत करते हुए कहा कि आज इतनी बड़ी संख्या में मंथन करने पहुंची व्यापारी भाईयों की भीड़ बताती है कि प्रदेश में उनकी समस्याओं जानने, समझने व उनकी आवाज उठाने वाले प्रदेशस्तरीय संगठन का कितना बड़ा अभाव था। इस अभाव को पूरा करने का काम आज राष्ट्रीय जन उद्योग व्यापार संगठन ने किया है। बुवानीवाला ने कहा कि प्रदेश में व्यापारिक समस्याएं गंभीर रूप धारण कर चुकी है लेकिन ना तो केन्द्र सरकार और ना प्रदेश सरकार इस ओर ध्यान दे रही है। आज प्रदेश का व्यापारी वर्ग गहरे आर्थिक संकट से जूझ रहा है इसलिए सरकार का दायित्व है कि सरकार का खजाना भरने वाले इस वर्ग को प्रताडि़त करने की बजाए उसकी मदद की जाए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के इस मुश्किल दौर में व्यापारी विशेषकर लघु एवं मझले उद्योग-धंधों को काफी नुकसान उठाना पड़ा है। उन्होंने कहा कि आज व्यापारी वर्ग को सरकार के काफी अपेक्षाएं है इसलिए उनका शोषण करने की बजाएं सरकार को उनकी मदद के लिए आगे आना चाहिए। बुवानीवाला ने नए कृषि कानून को किसानों व मजदूरों के आढ़तियों का विरोधी बताते हुए उसे वापिस लिए जाने की मांग की।
संगठन के राष्ट्रीय वरिष्ठ उपाध्यक्ष अजय गुप्ता ने बिजली व पानी के बिलों से फिक्स चार्ज समाप्त किए जाने की मांग को उठाया तो वहीं राष्ट्रीय महासचिव विकास गर्ग ने किसी भी आपदा की स्थिती में गरीब व किसानों की तर्ज पर व्यापारियों के लिए विशेष अनुदान के मुद्दें को उठाया। उन्होंने कहा कि तमाम छोटे दुकानदारों जिनकी पुंजी लॉकडाउन की वजह से खत्म हो गई है उनके खातों में सीधा नकद सहायता राशि दी जाए।
नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष गुलशन डंग ने उन्हें प्रदेश की जिम्मेदारी दिए जाने पर राष्ट्रीय पदाधिकारियों व उपस्थित व्यापारियों का आभार जताते हुए कहा कि प्रदेश के कोने-कोने से व्यापारियों को एकजुट कर उनके हितों की रक्षा के लिए वह किसी भी किमत पर पीछे नहीं हटेंगे। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही जिलास्तर, विधानसभा स्तर व ब्लॉक स्तर पर कमेटीयों का गठन कर प्रदेश के व्यापारियों को एकजुट करने का काम किया जाएगा। गुलशन डंग ने कहा कि राष्ट्रीय जन उद्योग व्यापार संगठन के बैनर तले प्रदेशभर में व्यापारियों की आवाज उठाने के भावी कार्यक्रमों के साथ सामाजिक कार्यक्रमों तथा राजनीति में व्यापारियों की भूमिका भी तैयार की जाएगी।
ये उठी मांगे – मंथन के दौरान राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित गुप्ता, राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष अशोक बुवानीवाला व उपस्थित पदाधिकारियों ने व्यापारियों की समस्याओं को दृष्टिगत रखते हुए पावर लूम, हैंडलूम इंडस्ट्री, फार्मास्यूटिकल इंडस्ट्री, ट्रांसपोर्ट एसोशिएशन, पट्रोलियम एसोसिएशन, लॉकडाउन पीरियड से उत्पन्न हुई व्यापारी समस्याओं पर तथा नई किसान नीति से समाप्त हो रही मंडियों पर चर्चा कर उनके समाधान के लिए योजना तैयार की गई। पावर लूम, हैंडलूम सेक्टर ने पूरे देश की पहचान विश्व स्तर पर बनाने का कार्य किया है आज विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धा बनाए रखने के लिए सरकार से मांग रखी जाती है कि सस्ती बिजली, सस्ता ऋण, कुशल कारीगरों को उपलब्ध करवाने का कार्य करें। सीसी लिमिट/ बॉडी पर बैंकों द्वारा लिए जाने वाले ब्याज को लॉकडाउन समय के लिए माफ किया जाना चाहिए। ई-कामर्श कम्पनियों पर 18 प्रतिशत अतिरिक्त टैक्स लगाया जाए। नए कृषि कानून को वापिस लिया जाए, आजादी के पहले से चले आ रहे कई गैर-जरूरी दबाव बनाने वाले कानूनों को समाप्त किया जाना चाहिए। बैंकों के रवैये की वजह से कारोबारियों को मुद्रा लोन लेने में दिक्कत होती है इसलिए सरकार बैंक, एनबीएफसी और माइक्रोफाइनेंस कंपनियों की लोन देने की क्षमता बढ़ाई जाए, लॉक डाउन की वजह से और बंद हो रहे हैं व्यापारी वर्ग संकट से जूझ रहा है कर्मचारियों की सैलरी नहीं दी जा पा रही इसके लिए अलग से राहत योजना बनाकर जो 20 लाख करोड़ से का पैकेज घोषित किया जाए। बिजली सरचार्ज माफ किए जाए। छोटे दुकानदारों व व्यापारियों को उनके बैंक खातों में नकद सहायता पहुंचाई जाए।
इन्हें मिली संगठन में जिम्मेदारी- प्रदेश अध्यक्ष की नियुक्ति के पश्चात गुलशन डंग ने अपनी कार्यकारिणी का गठन करते हुए भुपेश महता सिरसा, देवराज महता भिवानी, पवन अग्रवाल अम्बाला, संजीव चौधरी पानीपत, श्रीनिवास गुप्ता बहादुरगढ़, सतीश पंसारी रोहतक, बिट्टू सचदेवा रोहतक, बलराम गर्ग फरीदाबाद को प्रदेश उपाध्यक्ष व नरेन्द्र झिंगारीया नारनौल, सत्यप्रकाश गर्ग समालखा, संजय गोयल घरौंडा, संजय सिंगला सोनीपत, राकेश भल्ला अम्बाला, राजेश सिंगला कुरूक्षेत्र, विनोद सिंगला उर्फ बिल्ला सफीदों, विरेन्द्र गुप्ता नूहं, भारत वर्मा झज्जर, अमरनाथ गुप्ता पानीपत को प्रदेश सचिव तथा रामअवतार तायल हांसी, साहिल मंगु रोहतक को प्रदेश प्रवक्ता की जिम्मेदारी दी गई। गुलशन डंग ने बताया कि शेष कार्यसमिति तथा जिलाध्यक्षों की घोषणा अगले सप्ताह की जाएगी।
ये रहे उपस्थित- रमेश मोंगा रोहतक, पीयूष गर्ग पानीपत, मनीष महता, विनोद पांचाल, कपिल खन्ना, हिमलेश जैन, संजय वर्मा, रविन्द्र अत्री, बलराम शर्मा, सुरेन्द्र गर्ग, विनोद गेरा, गौतम जैन, एकता बंसल, भारत भूषण, हरिमोहन गुप्ता, सुरेश गोयल, सतपाल सिंह, बलजीत सिंह, राजू चावला, जितेन्द्र अहलावत, जयपाल छौक्कर सहित प्रदेशभर से अनेक व्यापारी उपस्थित थे।

Leave a Reply