सोमवार को खुल रहे है धार्मिक स्थल: गुरुद्वारा मन्दिरो में तैयारियां जोर शोर से

 
चंडीगढ़: 24 मार्च से कोरोना संकट के चलते लगे लॉक डाउन के लगभग 76 दिन बाद सोमवार से धार्मिक स्थल गुरुद्वारा और मंदिर खुलने जा रहे है। इसको लेकर मंदिर गुरुद्वारा में तैयारियां पूरे जोर शोर से चल रही है। सभी जगह सैनीटाईजेशन और साफ सफाई की जा रही है। वहीं गुरुद्वारा साहिब सेक्टर 19 में भी सोमवार को खुलने जा रहे गुरुद्वारा में भी साफ सफाई और सैनीटाइज़िंग की गई। इस सबमें खास बात ये रही कि इस साफ सफाई और सैनीटाइज़िंग में विश्व हिंदू परिषद की चंडीगढ़ इकाई के सदस्यों ने भी पूरी निष्ठा और सेवाभाव से इसमें सहयोग दिया।
विश्व हिंदू परिषद के सदस्यों ने भी सेवा में दिया सहयोग
गुरुद्वारा श्री गुरु सिंह सभा सेक्टर 19 के प्रेसिडेंट तेजिन्दरपाल सिंह के अनुसार लगभग 76 दिन के बाद बाबा जी की दया मेहर से कल गुरुद्वारा साहिब खुलने जा रहे है।अब संगत/भक्त अपने आराध्य को माथा टेक आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि गुरुद्वारा साहिब के खुलने को लेकर तैयारियां जोर शोर से चल रही है। गुरुद्वारा साहिब के परिसर की साफ सफाई और सैनीटाइज़िंग की जा रही है। गुरुद्वारा के प्रवेश द्वार पर सैनिटाइजर रखे गए है। हाथ धोने वाले स्थल पर भी साबुन रखा गया है। बाबा जी की पालकी और उनके आस पास के स्थान की भी साफ सफाई की गई है। सेवादार और सेवादरनियों ने बाबा जी की पालकी और उनके शस्त्र की भी तन मन और सेवाभाव से साफ सफाई की है। इस सबमें अहम बात ये रही कि विश्व हिंदू परिषद के सदस्यों ने भी सेवाभाव से गुरुद्वारा साहिब में सैनीटाईज़िंग की।
सेवादारों द्वारा सेवाभाव से की जा रही है साफ सफाई और सैनीटाईजेशन 
इसके अलावा गुरुद्वारा साहिब में आने वाली संगत को जागरूक कर्म करने के उद्देश्य से बड़े बड़े होर्डिंग्स भी लगाए गए है, ताकि कोरोना वायरस को लेकर सरकार के दिशा निर्देशों को लेकर क्या करे और क्या नही। उन्होंने बताया कि गुरुद्वारा साहिब में किसी भी तरह के ही दरबान नही सजाए जाएंगे। माथा टेकने आयी संगत को सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करते हुए 06 फ़ीट की दूरी रखनी होगी। सिर ढकने के लिए रुमाल या दुपट्टा अपना लाना होगा। संगत अपने जूते या तो अपनी गाड़ी या स्कूटर में रखकर आए या फिर गुरुद्वारा साहिब के बाहर उतार कर आना होगा। जिसकी देखरेख गुरुद्वारा का सेवादार रखेगा।