हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष श्री ज्ञानचंद गुप्ता ने जिले में नंदीशाला के निर्माण कार्य का किया शुभारंभ

पंचकूला, 14 जनवरी: पंचकूला को आवारा पशुओं से मुक्त करने की अपनी मुहिम को आगे बढ़ाते हुये हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष श्री ज्ञानचंद गुप्ता ने आज गांव कोट में लगभग 9 एकड़ भूमि पर 2.5 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाली नंदीशाला के निर्माण कार्य का शुभारंभ किया जो जिला की अपनी तरह की पहली नंदीशाला होगी। इस अवसर पर उन्होंने घोषणा की कि नंदीशाला में भारत माता के भव्य मंदिर का निर्माण भी किया जायेगा।

गांव कोट में लगभग 9 एकड़ भूमि पर 2.5 करोड़ रुपये की लागत से बनेगी नंदीशाला

इससे पूर्व विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता, नगर निगम के महापौर कुलभूषण गोयल और नगर निगम पार्षदो ने विधिवत हवन पूजन किया।

इस अवसर पर प्रदेशवासियों व जिलावासियों को मकर सक्रंाति की शुभाकामनायें देते हुये श्री गुप्ता ने कहा कि इस नंदीशाला के निर्माण कार्य के आरंभ होने से गांव कोट, डबकोरी और मट्टावाला सहित कई गांवों की लंबे समय से चली आ रही मांग आज पूरी हुई हैं। उन्होंने कहा कि गांववासियों की शिकायत थी कि फसल तैयार होने पर नंदी उनके खेतों में फसलों को नुकसान पंहुचाते है। उन्होंने कहा कि हिंदू समाज में गाय के साथ-साथ नंदी पुजनीय हैं। गांव सुखदर्शनपुर और गांव रिहोड में गऊशाला का निर्माण हो चुका है और वहां पर बेसहारा गायों को रखा जा रहा है और गांव कोट में इस नंदीशाला के निर्माण से बेसहारा घूम रहे नंदियों को यहां रखा जायेगा।

नगर निगम के एक साल के कार्यकाल में हुये ऐतिहासिक काम

श्री गुप्ता ने कहा कि गांवों में भी शहर की तर्ज पर सभी सुविधायें उपलब्ध हो, इसके लिये नगर निगम ने प्रदेश सरकार के सहयोग से पिछले एक साल में अनेक ऐतिहासिक कार्य किये गये हैं। अमरूत योजना के अंतर्गत 11 गांवो में लगभग 45 करोड़ रुपये की लागत से सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाने का कार्य लगभग पूरा हो गया है और ये जल्द ही कार्य करना शुरू कर देंगे। इसके अलावा गांव में गलियों को पक्का करने का कार्य भी किया जा रहा है। उन्होनंे कहा कि यह सुनिश्चित किया गया है कि प्रत्येक गांव में कम से कम एक सामुदायिक केंद्र या धर्मशाला अवश्य हो। उन्होंने कहा कि गांवों में स्थापित श्मशानघाट में पक्का रास्ता, शैड, चारदीवारी और पानी की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है। मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने विशेष तौर पर निर्देश दिये है कि सभी श्मशानघाटों में उक्त आवश्यक सुविधाओं की व्यवस्था की जायें। उन्होंने कहा कि गांव में पीने की पानी की समुचित व्यवस्था के लिये नये ट्यूब्वैल लगाये गये है, जिससे कहीं भी पीने के पानी की कोई समस्या नहीं है।

गांव में भी मिल रही है 24 घंटे बिजली आपूर्ति

श्री गुप्ता ने कहा कि 2014 से पूर्व जिला के गांवों में केवल 8 से 10 घंटे प्रतिदिन बिजली की आपूर्ति होती थी परंतु वर्तमान राज्य सरकार के कार्यकाल में गांवों में 24 घंटे बिजली दी जा रही हैं। उन्होंने कहा कि पंचकूला हरियाणा का पहला जिला है जहां शहर के साथ साथ गांव और मोरनी जैसे पहाड़ी इलाके में भी 24 घंटे बिजली की आपूर्ति की जा रही है।

स्वास्थ्य सुविधाओं का हुआ विस्तार

श्री गुप्ता ने कहा कि नागरिक अस्पताल सेक्टर-6 में स्वास्थ्य सुविधाओं का विस्तार किया गया है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2014 से पूर्व नागरिक अस्पताल में केवल 100 बैड की क्षमता थी जो अब बढ़कर 500 बैड हो गई हैं। इसके अलावा माताओं व नवजात शिशुओं की देखभाल के लिये नागरिक अस्पताल में मदर एवं चाइल्ड केयर आॅस्पिटल का निर्माण किया जा रहा है। इसके साथ साथ गांव कोट की सीएचसी और बरवाला व रत्तेवाला में पीएचसी को अपग्रेड किया गया हैं।

सड़को का किया गया सुदृढीकरण

श्री गुप्ता ने कहा कि यमुनानगर-पचंकूला राष्ट्रीय राजमार्ग-73 इस इलाके की लाईफ लाईन है। उन्होंने कहा कि इस राष्ट्रीय राजमार्ग के निर्माण के बाद इस इलाके का विकास हुआ है और लोग पंचकूला की तरफ आकर्षित हुये है। उन्होंने कहा कि पंचकूला में नई सड़को का निर्माण किया गया है, जिससे लोगों के आवागमन में सुविधा हुई है।

कचरे से बनाई जायेगी खाद

उन्होंने कहा कि लोगों के घर प्रतिदिन इक्ट्ठा होने वाले कचरे से खाद तैयार की जायेगी। इस कार्य के लिये कल ही टेंडर खुले है। उन्होंने कहा कि पंचकूला में प्रतिदिन 140 से 145 टन कचरा इक्ट्ठा होता है। एजेंसी द्वारा लोगों के घरो से कचरा इक्ट्ठा करके डंपिंग ग्राउंड में लाया जायेगा, जहां उसे 24 घंटे में प्रोसेस करके खाद तैयार की जायेगी। इस खाद को फसलों के लिये प्रयोग किया जा सकेगा।

पंचकूला स्वच्छता के क्षेत्र में पहले दस में बनायेगा स्थान

श्री गुप्ता ने कहा कि स्वच्छ सर्वेक्षण 2022 में हमारा लक्ष्य रहेगा कि पंचकूला देश के पहले 10 शहरों में शामिल हो। इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिये जिलावासी अपना पूर्ण योगदान दें। श्री ज्ञानचंद गुप्ता ने कहा कि उन्होंने इस वर्ष सात सरोकार दिये हैं, जिसमें पंचकूला को अतिक्रमण, प्रदूषण, प्लाॅस्टिक, ड्रग, स्ट्रे कैटल, स्ट्रे डाॅग, और स्लम फ्री बनाना है। उन्होंने जिलावासियों से आह्वान किया कि वे पंचकूला को हरा-भरा, स्वच्छ और सुंदर बनाने के लिये अपना योगदान दें और पंचकूला को देश में टाॅप टैन शहरों में लाने का काम करें।

इस अवसर पर नगर निगम के महापौर कुलभूषण गोयल, सयुक्त आयुक्त संयम गर्ग, बीजेपी जिला महामंत्री परमजीत कौर, वीरेंद्र राणा, पार्षद सलीम डबकोरी, राजकुमार जैन, गौतम प्रसाद, सतबीर चैधरी, सुरेश वर्मा, रितु गोयल, अन्य पार्षद व गणमान्य व्यक्ति सहित गांववासी भी उपस्थित थे।

Leave a Reply