Daily Archives: August 11, 2020

स्वतन्त्रता दिवस समारोह लाईव दिखाया जाएगा-उपायुक्त

पंचकूला, 11 अगस्त: उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने बताया कि इस बार कोविड-19 के चलते सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए 15 अगस्त  स्वतऩ्त्रता दिवस समारोह पर स्थानीय परेड ग्राउण्ड में राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाएगा।…

उत्तराखंड भ्रातृ संगठन ने मनाई वर्चुअल जन्माष्टमी।

चंडीगढ़:उत्तराखंड भ्रातृ संगठन दरिया कि विगत 15 वर्षों से दरिया में श्री कृष्ण जन्माष्टमी का भव्य आयोजन करता आ रहा है। संगठन के महासचिव दीपक उनियाल ने बताया कि उत्तराखंड भ्रातृ संगठन दरिया के सदस्य…

जन्म अष्ठमी पर मंदिरों में एक समय में केवल 5 श्रद्वालुओं का प्रवेश-उपायुक्त

पंचकूला,11 अगस्त- उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा ने बताया कि   कोरोना के चलते 12 अगस्त जन्माष्टमी पर्व के दौरान जिला के मंदिरों को सेनेटाइज करवाने, दो गज की दूरी सोशल डिस्टेंस का पूरी तरह से…

हरियाणा सरकार का पारदर्शिता महज एक दिखावा: के सी गोयल

चंडीगढ़: हरियाणा राज्य फार्मेसी कौंसिल के पूर्व चेयरमैन के सी गोयल ने हरियाणा सरकार की पारदर्शिता को महग एक  दिखावा करार दिया है और स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज व् उप मुख्य मंत्री दुष्यंत चौटाला पर प्रहार करते हुए भ्रष्टाचार का सरदारबताया है पूर्व चेयरमैन के सी गोयल ने विज व् दुष्यंत पर किया प्रहार | हरियाणा राज्य फार्मेसी कौंसिल के 1983 से अब तक निर्वाचोत सदस्य 25/9/96से 24/12/2007 तक व् 2/6/14 से 22/12/17 तक चेयरमैन हुए कृषण चंद गोयल ने अपने साथ आप बीती बयान करते हुए बताया कि सरकार न तो हमारी भगवाण नुमी अदालतों के फैसले को मानती और न ही देश के कानून को मानती, यदि यह पारदर्शिता एवं जीरो टोल्लेरेंस है तो इस से बड़ा धोखा नही सकता ? 35000 फार्मासिस्टो का भविष्य दाव पर: के सी गोयल | फार्मेसी से PHD तक पास करने वालो को तब तक न तो कोई नोकरी मिल सकती और न ही लाइसेंस जिस के लिए फार्मासिस्ट की सेवाए जरूरी है| रजिस्ट्रेशन करने का अधिकार फार्मेसी  एक्ट की धारा 32 के तहत केवल कौंसिल रजिस्ट्रार  का है प्रधान व् कोई भी सदस्य इस में दखल नही दे सकता रजिस्ट्रार की नियुक्ति का अधिकार सरकार का नही केवल कौंसिल का है  दवा घोटाले की आवाज़ उठाने वाले दुष्यंत भी सरकार के शिकंजे में | लेकिन हरियाणा के ग्रह मंत्री एवं स्वास्थय मंत्री श्री अनिल विज जी ने माननीय हाई कोर्ट के फैसले जो CWP 10466/96  एवं 10886 /97 में 22/2/2007 को दिए एवं फार्मेसी एक्ट की धारा 26,फार्मेसी कौंसिल इंडिया के आदेशो को दरकिनार  करते हुए अम्बाला कैंट BJP मडल अध्यक्ष श्री अजय परासर के भाई को बगैर किसी ग्रेजुएशन के,10+2 गैर मान्यता बोर्ड से उसी 10+2 के आधार पर डिप्लोमा कर्नाटका से लाने वाले मिस्टर अरुण परासर को डिप्लोमा से पीएचडी तक पास करने वालो को रजिस्टर्ड करने के लिए फार्मेसी कौंसिल का बगैर किसी आवेदन, इंटरव्यू के ही रजिस्ट्रार नियुक्त कर दिया गया  जिस को सरकार पारदर्शिता मानती है? बतोर निर्वाचित प्रधान  के सी गोयल ने अपना कर्तव्य समझते हुए फार्मेसी एवं जन हित में इस अवैध नियुक्ति का विरोध करते हुए सरकार व् कौंसिल के सभी सदस्यों को लिखा जो श्री अनोल विज को इतना बुरा लगा कि चोकसी ब्यूरो का दुरूपयोग करते हुए के सी गोयल के विरुद्ध FIR न० 10 दिनाक 15/12/17 दर्ज करवा दी गयी और निलम्बीत कर दिया गया माननीय हाई कोर्ट ने कौंसिल कार्यालय में नियुक्त रजिस्ट्रार एवं मुक्कमल स्टाफ की नियुक्ति को अवैध मानते हुए रद्द किया 25/7/19 को लेकिन तब से हजारो बेरोजगार के चलते भी आज तक किसी और को नियुक्त नही करने दिया जा रहा क्यूंकि सरकार इनको  ही अपना कमाऊ वफादार समझते हुए फिर से नियुक्त करना चाहती है जो सरकारी पारदर्शिता है ? मौजूदा उप मुख्य मंत्री श्री दुष्यंत चौटाला जी ने लोक सभा में सबूतों के साथ हरियाणा का दवा  खरीद घोटाले  का उल्लेख किया था अनेक प्रेस वार्तालापो में भी इसका बार बार जिक्र उठाया गया श्री अनिल विज जी ने भी SIT बना करजांच करवाने  का  एलान किया था  लेकिन जांच की बजाय घोटाले के आरोपी को बतोर इनाम कौंसिल का पहले रजिस्ट्रार और उप प्रधान नियुक्त किया एवं धारा 23 नियम 7 के तहत ही चुनाव करवा करप्रधान व् उप प्रधान चुना जा सकता है लेकिन सभी कायदे कानून समाप्ति कर दिए इस घोटाले बाज़ ने राजनैतिक सरक्ष्ण का लाभ  उठा कर अनेक फर्जी रजिस्ट्रेशन जारी किये लगभग दस करोड़ रु कौंसिल के खाते से निकाले अब फिर से कौंसिल के पांच सदस्य को खरीद क्र एक प्रस्ताव पास करवाया गया कि मिस्टर सोहन लाल कंसल को इस कौंसिल का रजिस्ट्रार नियुक्त किया जाए इस घोटाले बाज़ ने फिर से खुद ही अपने हस्ताक्षर से खुद को ही रजिस्ट्रार नियुक्त करने की सिफारिश सरकार के पास भेज दी गयी घोटाले में शामिल अधिकारियों ने भी नियम 17(3) व् 18  जिस के तहत 8 सदस्यों से  कम मीटिंग का कोरम पूरा नही होने से मीटिंग अवैध है को दरकिनार करते हुए घोटाले बाज़ जिसके कारनामे को जानकारी इन अधिकारियों को समय समय पर दी गयी फिर भी इस को रजिस्ट्रार नियुक्त करने की प्रक्रिया जारी है क्यूंकि यह सरकार की पारदर्शिता है सरकार ने के सी गोयल जो निर्वाचित सदस्य एवं प्रधान है इस को FIR न० 10 दिनाक 15/12/17 दर्ज करवा क्र निलम्बन किया गया लेकिन धनेश अध्लाखा जिसके खिलाफ पहले से ही FIR 261 दिनाक 6/3/18 फरीदाबाद में कोर्ट के आदेश पर दर्ज होते हुए भी धारा 23 नियम 7 को दरकिनार करते हुए प्रधान नियुक्त कर दिया गया है घोटाले बाज़ सोहन लाल कंसल को उप प्रधान नियुक्त क्र दिया गया सुचना के अधिकार से कौंसिल ने 19 फर्जी रजिस्ट्रेशन की मुक्कमल फ़ाइल के सी गोयल को उपलब्ध करवाई लगभग दस करोड़ रु निकाले गये सरकार एवं माननीय हाई कोर्ट से बर्खास्त सदस्यों को दुरूपयोग करने के लिए 45 लाख  रु दिए गये  जो कि गबन है क्या सरकार जांच करवाएगी ? निर्वाचित प्रधान के सी गोयल ने इस कौंसिल को ONLINE करते हुए रजिस्ट्रेशन एक महीने में नवीनीकरन 15 दिन में हर  आवेदक के घर पहुंचाना सुनिश्चित किया कौंसिल के हर कमरे में व् बाहर CCTV कैमरे लगवाये नकद लेन देन बंद  किया गया नवीनीकरन जो हर साल करवाना पड़ता था पांच साल के लिए वैध किया जो इमानदारी तमगा पहले श्री अनिल विज  जी को अच्छा नही लगा लेकिन  हरियाणा के 35000 फार्मासिस्ट रजिस्ट्रेशनके नवीनीकरन के लिए दर दर की ठोकरे खाने को मजबूर है जबकि  औषधि लाइसेंस के नवीनीकरन की ही तर्ज पर फार्मेसी एक्ट की धारा 34(3) के तहत नवीनीकरन की फीस ही नवीनीकरन  का सबूत है लेकिन सरकार के कमाऊ वफादार यह सब होने नही दे रहे क्यूंकि यह सब जीरो टोलेरेंस एवं पारदर्शिता नही है

जन्माष्टमी का पर्व श्रद्धाभाव और हर्षोल्लास से मनाया

चंडीगढ़: भगवान श्री कृष्ण के बाल्यकाल की वेशभूषा में तीन छोटे छोटे बच्चों ने आज लोगों को सैनिटाइजर और  मास्क बांटने के साथ-साथ उनसे यह शपथ भी ली कि अगर बहुत जरूरी हो, तो ही…