7 से 14 जनवरी 2022 तक पोषण अभियान के तहत “स्वस्थ बालक बालिका स्पर्धा’ का किया जायेगा आयोजन

पंचकूला, 28 दिसंबर: उपायुक्त श्री महावीर कौशिक की अध्यक्षता में जिला सचिवालय के सभागार में पोषण अभियान के अंतर्गत महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा “स्वस्थ बालक बालिका स्पर्धा’ को लेकर बैठक आयोजित की गई। 

बैठक में 7 जनवरी से 14 जनवरी 2022 तक “स्वस्थ बालक बालिका स्पर्धा’ के लिये चलाई जाने वाली गतिविधियों को लेकर चर्चा हुई।

जिला कार्यक्रम अधिकारी श्रीमती आरू वशिष्ट ने उपायुक्त को विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने बताया कि यह अभियान पूरे भारतवर्ष में चलाया जायेगा। इस अभियान के अंतर्गत जिले के 0-6 आयु वर्ग के सभी बच्चों की लम्बाई एवं वजन का माप किया जायेगा। यह कार्य आंगनवाॅडी वर्कर तथा एजीओ तथा आशा वर्कर के माध्यम से किया जायेगा।

इस अभियान के अंतर्गत जिले के 0-6 आयु वर्ग के सभी बच्चों की लम्बाई एवं वजन का किया जायेगा माप

उन्होंने बताया कि इस अभियान का उद्देश्य हर बच्चे के स्वास्थ्य का पूर्ण विवरण प्राप्त करना है, जिसके आधार पर बच्चों को तीन श्रेणी में विभाजित किया गया है- प्रथम श्रेणी-अति कुपोषित , दूसरी श्रेणी-कुपोषित, तीसरी श्रेणी-स्वस्थ। उन्होंने बताया कि 10 जनवरी को “स्वस्थ बालक बालिका स्पर्धा’ का लांच किया जायेगा। 11 जनवरी को जिले के ब्लाॅक गांव लेवल पर प्लांटेशन ड्राईव चलाई जायेगी।

12 जनवरी को सभी प्राईमरी स्कूलों में पंचायत लेवल पर पीएचसी और सीएचसी में 0-6 वर्ष के बच्चों का वजन और लंबाई मापी जायेगी। घरों का दौरा कर महिलाओं पोष्टिक आहार के बारे में जानकारी दी जायेगी। 13 जनवरी को महिलाओं को पोषक थाली प्रतियोगिता के माध्यम से स्थानीय खाने के बारे में जानकारी दी जायेगी। इस दौरान सभी प्राईमरी स्कूलों में पंचायत लेवल पर पीएचसी और सीएचसी में 0-6 वर्ष के बच्चों का वजन और लंबाई मापी जायेगी। 14 जनवरी को जिला के सभी खंडो में स्वस्थ बच्चा प्रतियोगिता के माध्यम से जीतने वाले बच्चों को 100 रुपये नगद इनाम दिया जायेगा। उपायुक्त महोदय सभी विभागों द्वारा चलाई जा रही गतिविधियों का निरीक्षण करेंगे।

उन्होंने बताया कि यह श्रेणियां पोषण ट्रैकर एप (https://poshantracker.in) पर बच्चे का वजन तथा लम्बाई का डाटा अपलोड करने पर प्रदर्शित होंगे। यह कार्य अभिभावकों द्वारा भी किया जा सकता है, जिसमें उनके बच्चे का एक सर्टिफिकेट जेनरेट होगा। इन्ही श्रेणी के आधार पर अति कुपोषित तथा कुपोषित बच्चों के स्वास्थ्य पर विशेष रूप से सुधार किया जायेगा। उन्होंने बताया कि इसके तहत सभी बच्चों को पूर्ण रूप से स्वास्थ्य सेवाएँ प्रदान की जाएँगी तथा उनके माता पिता को बच्चों को दिए जाने वाले पोष्टिक भोजन के बारे में पूर्ण रूप से जानकारी दी जाएगी। इस अभियान में एनजीओ तथा सभी विभागों द्वारा पूर्ण रूप से योगदान देने का आश्वासन दिया गया।

उपायुक्त महावीर कौशिक ने जिला के सभी निवासियों से अपील की कि वे इस अभियान में बढ़ चढ़कर भाग लंे ताकि यह अभियान सफलता पूर्वक अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सके और जिले के हर बच्चे को पूर्ण रूप से स्वस्थ व निरोगी बनाया जा सके।

बैठक में स्वास्थ्य, जिला रेडक्राॅस सोसायटी, शिक्षा, नगर निगम, नेहरू युवा केंद्र, वन विभाग, ब्लाॅक डवैलमेंट एवं पंचायत कार्यालय पिंजौर और रेजिडेंस वेलफेयर एसोसिएशन के प्रतिनिधियों ने भाग लिया।