7 स्टार रैनबो रेंकिंग के लिये हरियाणा ग्राम पंचायतों से 30 जून तक नामांकन मांगे

पंचकूला, 14 जून- हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहरलाल व विकास एवं पंचायत मंत्री श्री ओम प्रकाश धनखड़ की प्रदेश में पढ़ी-लिखी पंचायत देने के बाद जिला परिषदों व पंचायत समितियों को सत्ता विकेंद्रीकरण की पहल कर देश के समक्ष एक उदहारण प्रस्तुत किया है तथा प्रदेश में पहली बार मुख्यालय व अतिरिक्त उपायुक्तों के साथ पंचायती राज संस्थानों के जनप्रतिनिधियों से सीधा संवाद के लिये दूसरी बार पंचूकला के किसान भवन में विभाग की विकास परियोजनाओं की समीक्षा के लिये ओपन हाउस का आयोजन किया गया। 
पंचायतों को 7 स्टार की रेटिंग देने की अपनी परिकल्पना को श्री ओमप्रकाश धनखड़ ने चरितार्थ कर दिखाया है। गत वर्ष 1020 पंचायतों को स्टार रेटिंग दी गई थी। समीक्षा बैठक में यह निर्णय लिया कि सभी ग्राम पंचायतों में चल रहे शिवधाम नवीकरण योजना, पार्क एवं व्यायामशाला का निर्माण तथा ग्राम गौरवपट्ठ का कार्य 15 अगस्त से पहले-पहले प्राथमिकता के आधार पर पूरा कर लिया जायेगा। 
बैठक में श्री धनखड़ ने घोषणा की कि इस वर्ष 15 अगस्त को बेहत्तर ढंग से संचालित ग्राम सचिवालयों को सम्मानित किया जायेगा। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे सामाजिक सारोकार के साथ काम करने के लिये लोगों को प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि 21 जून अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर पार्क व व्यायामशालाओं की सफाई सुनिश्चित की जाये। 
बैठक में यह निर्णय लिया गया कि 7 स्टार रैनबो रेंकिंग के लिये ग्राम पंचायतों से 30 जून तक नामांकन मांगे गये है। इस बात की जानकारी दी गई कि 15 जुलाई तक पंचायतों के डाटा का सत्यापन करवाया जायेगा और अगस्त के प्रथम सप्ताह में स्टार रेटिंग प्राप्त करने वाली पंचायतों को पुरस्कृत किया जायेगा। गत वर्ष स्टार रेटिंग के लिये ग्राम पंचायतों को विकास कार्यों के लिये 20 करोड़ रुपये का अतिरिक्त बजट दिया गया था। 
श्री धनखड़ ने कहा कि मनुष्य ही समस्या है और मनुष्य ही समाधान है। इसलिय जन भागीदारी बढ़ाने के लिये लोगों को प्रेरित करने की आवश्यकता है। बैठक में निर्णय लिया गया कि पार्क व व्यायामशाला के निर्माण के लिये ग्राम पंचायतों को दूसरी किस्त तत्काल जारी की जायेगी। बैठक में विकास एवं पंचायत विभाग के प्रधान सचिव सुधीर राजपाल सभी जिला परिषदों व पंचायत समितियों के अध्यक्ष व उपाध्यक्ष, सभी जिलों के अतिरिक्त उपायुक्त, जिला विकास एवं पंचायत अधिकारियों के अलावा मुख्यालय स्तर के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।