9 अगस्त, 2020, दिन रविवार को होगा एक शानदार ऑनलाईन कार्यक्रम ‘‘जश्न-ए-आजादी’’ के रूप में ‘गूगल मीट एप’ के माध्यम से आयोजित

चण्डीगढ़, पंचकूला, 08 अगस्त, 2020: उत्तर क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र, पटियाला (संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार) ने करोना संकटकाल के समय में साहित्य के क्षेत्र में कई ऑनलाईन वेबीनारों व कवि सम्मेलनों का आयोजन किया जैसे कि अप्रैल माह में कवि पद्मविभूषण पण्डित माखनलाल चतुर्वेदी जी पर, मई माह में महावीर प्रसाद द्विवेदी जी एवं सुमित्रानंदन पंत जी पर, जून माह में बाबा नागार्जुन जी व शहीद रामप्रसाद ‘बिस्मिल’ जी पर। जून व जुलाई माह में ‘युवा कवि सम्मेलनों’ का भी आयोजन किया जिसमें सदस्य राज्यों के उभरते हुए युवा कवियों ने अपनी रचनाएं सुनाकर दर्शकों का दिल जीत लिया। इसके अतिरिक्त केन्द्र द्वारा जून माह में ऑनलाईन ‘अखिल भारतीय ई-कवि सम्मेलन’ का तथा जुलाई माह में ऑनलाईन ‘अखिल भारतीय ई-कवयित्री सम्मेलन’ का भी आयोजन किया गया जिसमें देश भर से कवियों व कवयित्रियों ने भाग लिया। इन सभी की रचनाओं ने समाज को सार्थक सन्देश भी दिया।

      इसी श्रृंख्ला में उत्तर क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र, पटियाला द्वारा 9 अगस्त, 2020, दिन रविवार को 11:00 बजे से एक शानदार ऑनलाईन कार्यक्रम ‘‘जश्न-ए-आजादी’’ के रूप में ‘गूगल मीट एप’ के माध्यम से आयोजित किया जा रहा है। केन्द्र के निदेशक प्रोफेसर सौभाग्य वर्द्धन जी ने जानकारी देते हुए मीडिया को बताया कि यह कार्यक्रम ‘‘प्रथम हरियाणा कवि सम्मेलन’’ के नाम से है जिसमें हरियाणा के जाने-माने कवि और कवयित्रियां हिस्सा ले रहे हैं। हरियाणा वीरों की भूमि रहा है, यहां के कवि और कवयित्रियों ने पूरे देश भक्ति के गौरव गान को बखूबी अपनी रचनाओं के माध्यम से बताया है। कार्यक्रम का संचालन उमंग अभिव्यक्ति मंच पंचकूला की सह संस्थापिका नीलम त्रिखा करेंगी और इसकी अध्यक्षता शिखा शाम राणा करेंगीं। कार्यक्रम में हिस्सा लेने वाले रचनाकारों के नाम इस प्रकार से है श्री अशोक नादिर भंडारी, श्री गणेश दत्त, मधु गोयल, सुनीता राणा, ममता सूद, डॉ जितेंद्र परवाज, डॉ शिवाजी अग्रवाल और आशुतोष कौशल।

      आप इस कार्यक्रम का सीधा प्रसारण एन.जेड.सी.सी. के यूट्यूब चैनल व फेसबुक पेज के माध्यम से देख सकते हैं। आप सभी अपने संदेश देश के नाम दे सकते हैं और देश के नाम होने वाले इस खूबसूरत कार्यक्रम का हिस्सा बन सकते हैं।

      इसके अतिरिक्त जल्दी ही केन्द्र के अन्य सदस्य राज्यों में भी कवि सम्मेलनों का ऑनलाईन माध्यम से आयोजन किया जायेगा।

      प्रोफेसर सौभाग्य वर्द्धन, निदेशक उत्तर क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र, पटियाला ने आगे बताया कि केन्द्र इस संकटकाल के समय में कलाकारों के लिए कला की विभिन्न श्रेणियों जैसे कि लोक/शास्त्रीय नृत्य व संगीत, चित्रकला, मूर्तिकला, नाट्य, साहित्य आदि को लेकर एक ‘‘ऑनलाइन कला महोत्सव’’ – ‘‘नई उम्मीद, नई पहल’’ का भी आयोजन करने जा रहा है, जिसका सीधा प्रसारण केन्द्र के यू-ट्यूब चैनल व फेसबुक पेज पर किया जाएगा।